अलीगढ़ (जेएनएन)। बिहार से 10 साल का बालक परिजनों से नाराज होकर ट्रेन में बैठकर चला आया। ट्रेन में सवार यात्री ने उसे जीआरपी के हवाले कर दिया। वहां से उसे चाइल्ड लाइन को सौंप दिया गया।

ट्रेन में मिला लावारिस बालक

देहलीगेट क्षेत्र के कनवरीगंज निवासी रोहताश गुप्ता बिहार गए थे। सोमवार को लौटे तो ट्रेन में लावारिस बालक दिखा। उन्होंने पूछताछ की तो पहले कुछ नहीं बताया। फिर घर से नाराज होकर चला आना बताया। उन्होंने ट्रेन स्टेशन पर रुकते ही बालक को जीआरपी थाने में पहुंचा दिया।

जीआरपी ने चाइल्ड लाइन को सौंपा बालक

जीआरपी इंस्पेक्टर विजय सिंह, महिला दारोगा कुसुमलता ने उससे पूछताछ की तो उसने अपना नाम मोहम्मद शाकिर पुत्र मोहम्मद अबरार निवासी रिवाही गुहाटी, जिला अररिया (बिहार) बताया। शाकिर ने बताया कि पिता मजदूर हैं। तीन भाई व एक बहन में वह तीसरे नंबर का है। पिता ने उसे डांट दिया था, जिससे वह घर से निकल आया। स्टेशन से ट्रेन में बैठ गया। इंस्पेक्टर ने बताया कि बालक के परिजनों को सूचना दे दी है। तब तक बच्चा चाइल्ड लाइन संस्था के सदस्य रियान अहमद को सौंप दिया है।

Posted By: Mukesh Chaturvedi