अलीगढ़, जागरण संवाददाता। सीवर लाइन की सफाई में लाखों का बजट ठिकाने लगा चुका नगर निगम जांच में भी खानापूरी कर रहा है। भाजपा पार्षदों ने ये आरोप लगाते हुए जांच पर सवाल उठाए हैं। शुक्रवार को रामघाट रोड पर सफाई कार्य की जांच कर रही टीम का विरोध किया। पार्षदों ने कहा कि मैनहोल में बांस डालकर अफसर जांच करा रहे हैं, जबकि आयरन की रोड होनी चाहिए। मौके पर हुई नपत पूर्व में बनी रिपोर्ट से भिन्न है।

यह है मामला 

छर्रा अड्डा से गुरुद्वारा रोड होकर मरघट और महाजन होटल से किशनपुर तिराहे तक बीते साल जुलाई में कराई गई सीवर लाइन की सफाई पर भाजपा पार्षद पुष्पेंद्र जादौन, विजय तोमर और सुरेंद्र पचौरी ने सवाल उठाए हैं। विजय तोमर ने तो बोर्ड अधिवेशन में अफसरों से जवाब मांग लिया। उनका कहना है कि स्थानीय फर्म से सांठगांठ कर विभागीय अफसरों ने सफाई कराए बिना ही भुगतान की फाइल तैयार करा ली। पार्षदों के इन आरोपों पर नगर आयुक्त गौरांग राठी सहायक नगर आयुक्त ठाकुर प्रसाद के नेतृत्व में गठित टीम से जांच करा रहे हैं। बुधवार रात छर्रा अड्डा से गुरुद्वारा मार्ग पर सीवर की जांच हुई। शुक्रवार को रामघाट रोड पर टीम जांच करने पहुंची। भाजपा पार्षद भी मौजूद रहे। पार्षद सुरेंद्र पचौरी ने बताया कि मैनहोल खोलकर बांस से सिर्फ गहराई नापी जा रही थी। बांस से नहीं पता चल सकता कि अंदर सिल्ट है या नहीं। इसके लिए आयरन की रोड होनी चाहिए थी। पार्षद पुष्पेंद्र जादौन ने कहा कि जांच के नाम पर अफसर खानापूरी कर रहे हैं। क्षेत्रीय लोग साफ बता रहे हैं कि सालों से सीवर की सफाई नहीं हुई है। नाले भी गंदगी से अटे पड़े हैं। इससे लोगों को काफी दिक्कत भी होती है। विजय तोमर ने बताया कि सहायक नगर आयुक्त से आयरन रोड से जांच कराने की मांग की गई, लेकिन उन्होंने अनसुना कर दिया।

भाग निकले अभियंता

रामघाट रोड पर जांच के लिए पहुंची टीम में शामिल सहायक अभियंता लक्ष्मण प्रसाद का लोगों ने विरोध कर दिया। यह देख वे वहां से भाग निकले।