अलीगढ़[जेएनएन]: भाजपा पार्षद की गिरफ्तारी को लेकर भड़के पार्षदों ने प्रशासनिक कार्यों का बहिष्कार कर दिया। पार्षद इस बात से भी नाराज हैं कि खाद सामग्री वितरण में उन्हें पूछा नहीं जा रहा, जबकि उन्हें वार्ड कमेटी का अध्यक्ष बनाया गया है।

यह है मामला

क्वार्सी पुलिस ने मारपीट के मामले में मंगलवार को पार्षद वीरेंद्र सिंह को गिरफ्तार किया था। हालांकि, थाने पहुंचे विधायक व भाजपा पार्षद उन्हें छुड़ा लाए थे, लेकिन पार्षदों में आक्रोश कम नहीं हुआ। अलीगढ़ के आठ मंडलों की अलग-अलग बैठकें बुलाकर भाजपा पार्षदों ने कड़ी नाराजगी जताते हुए कहा कि सोशल मीडिया पर वायरल फर्जी वीडियो के आधार पर बिना जांच किए वार्ड के प्रथम नागरिक पर मुकदमा दर्ज कर गिरफतार कर लिया। मोबाइल छीनकर अभद्रता की।उपसभापति पुष्पेंद्र सिंह जादौन ने बताया कि पुलिस व प्रशासन भाजपा पार्षदों की उपेक्षा कर रहा है। कोरोना आपदा से निपटने के लिए पार्षद प्रशासन का सहयोग कर रहे हैं, लेकिन प्रशासन द्वारा पार्षदों के स्वास्थ्य व सुरक्षा के कोई इंतजाम नहीं किए गए। वितरण के लिए प्रशासन द्वारा खाद्य सामग्री उपलब्ध नहीं कराई जा रही, न ही सूची दी गई। जनता पार्षदों को पकड़ती है।

अब बनाएंगे सामाजिक दूरी

बैठकों में तय किया है कि लॉकडाउन में पार्षद प्रधानमंत्री व मुख्यमंत्री के आदेश मानते हुए सामाजिक दूरी बनाएंगे और घरों में रहेंगे। महामारी में जनता की समस्या को प्रशासन स्वयं देखे। प्रशासन के सैनिटाइजेशन, फॉगिंग व भोजन वितरण में पार्षद भाग नहीं लेंगे। पार्षद भूदेव सिंह ने कहा, प्रशासन मदद नहीं कर रहा और जनता की गालियां उन्हें सुननी पड़ती हैं। वीरेंद्र सिंह ने कहा, प्रशासन पार्षदों की उपेक्षा कर रहा है, जो ठीक नहीं है।

ये रहे मौजूद

बैठक में सचेतक दिनेश गुप्ता, उपनेता मुकेश शर्मा, सचेतक विजय तोमर, पूरन दिवाकर, हेमंत गुप्ता, सुरेंद्र पचौरी, अलका गुप्ता, नीलेश उपाध्याय, लतेश चौधरी, मनोज शर्मा आदि मौजूद थे।

प्रशासन के हैं साथ

विपक्षी दलों के पार्षद बहिष्कार में शामिल नहीं हैं। पार्षद मुशर्रफ हुसैन ने कहा कि ऐसी परिस्थिति में वह प्रशासन के साथ खड़े हैं। जनता को उनकी जरूरत है, जो संभव होगा मदद करेंगे।

इन बिंदुओं पर बनी सहमति

- नगर निगम से संबंधित कार्यों में पार्षदों की सहभागिता रहेगी। आर्थिक सहायता के लिए श्रमिकों के फार्म पार्षद जमा नहीं करेंगे, स्वच्छता निरीक्षक फार्म जमा कराएं। शासनादेश में भी इसमें पार्षदों की भूमिका नहीं है।

- खाद्य सामग्री वितरण में भी पार्षदों की भूमिका नहीं है। प्रशासन अपने स्तर से सामग्री वितरण कराए। कोई सहयोग करना चाहे तो कर सकता है।

- वीरेंद्र सिंह के खिलाफ मुकदमा वापस कर पूरे प्रकरण की जांच हो और दोषियों के खिलाफ कार्रवाई की जाए।

 

Posted By: Sandeep Saxena

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस