जासं, अलीगढ़ : क्वार्सी थाना क्षेत्र में महिला एसपीओ से दुष्कर्म के मामले में नौ महीने बाद भी पुलिस किसी नतीजे पर नहीं पहुंच सकी है। इस मामले में अभी तक विवेचना जारी है। महिला की ओर से पेश किए गए इंस्पेक्टर से बातचीत के आडियो को पुलिस ने जांच के लिए विधि विज्ञान प्रयोगशाला लखनऊ भेजा है। पुलिस को इसकी रिपोर्ट का इंतजार है, जिसके आधार पर आगे की कार्रवाई की जाएगी।

सासनीगेट क्षेत्र में रहने वाली अनुसूचित जाति की महिला एसपीओ (विशेष पुलिस अधिकारी) ने दिसंबर 2020 में क्राइम ब्रांच में तैनात रहे इंस्पेक्टर राकेश यादव के खिलाफ दुष्कर्म का मुकदमा दर्ज कराया था। आरोप था कि सासनीगेट थाने में बेटी के दहेज उत्पीड़न के मुकदमे में जांच की आड़ में इंस्पेक्टर ने महिला को रामघाट रोड स्थित एक होटल में बुलाया। यहां उसके साथ दुष्कर्म किया। धमकी दी कि किसी को बताने पर मुकदमे में कोई कार्रवाई नहीं करूंगा। धमकी की वजह से वह शांत रही, जिसका फायदा उठाकर इंस्पेक्टर मोबाइल फोन पर अश्लील बातें करने लगा। तत्कालीन एसएसपी के आदेश पर आरोपित के खिलाफ मुकदमा दर्ज हुआ था। एसपी सिटी कुलदीप सिंह गुनावत ने बताया कि इंस्पेक्टर की आवाज मिलान के लिए आडियो को जांच के लिए भेजा गया है। इसकी रिपोर्ट आते ही आगे की कार्रवाई की जाएगी। रिपोर्ट के लिए कई बार लखनऊ रिमांइडर भी भेजा गया है, मगर अभी तक रिपोर्ट नहीं आई है। अब फिर से रिमाइंडर भेजा जाएगा। आग्रह किया जाएगा कि रिपोर्ट जल्द भेज दी जाए, जिससे इस मामले में आगे की कार्रवाई शुरू हो सके। इंस्पेक्टर भी अभी गिरफ्तार नहीं किया गया है। उसने अग्रिम जमानत के लिए अदालत में याचिका दाखिल की थी, जिसे निरस्त कर दिया गया था। इंस्पेक्टर फरार बताया जा रहा है, मगर पुलिस उसकी गिरफ्तारी के लिए किसी तरह के प्रयास भी नहीं कर रही है।

Edited By: Jagran