अलीगढ़ : डिफेंस कॉरिडोर में शामिल होने आए रक्षा मंत्रालय के मेजर जनरल एमजेएस सयाली, ब्रिगेडियर रतन कुमार, ब्रिगेडियर शैलेंद्र मलिक व लेफ्टीनेंट कर्नल गुरु सेवक सिंह ने एएमयू का भ्रमण किया। कुलपति प्रो. तारिक मंसूर से उनके कार्यालय में भेंट भी की।

इस मौके पर सेना के प्रतिनिधिमंडल ने कहा कि वह एएमयू के छात्रों को सेना में भर्ती होने के लिए प्रोत्साहित करेंगे। सभी अधिकारियों ने विश्वविद्यालय की विभिन्न ऐतिहासिक इमारतों के अलावा सर सैयद हाउस, मौलाना आजाद लाइब्रेरी, मूसा डाकरी म्यूजियम, जामा मस्जिद, स्ट्रैची हाल, स्पो‌र्ट्स कॉम्पलेक्स, एस्ट्रो टर्फ, हाकी मैदान आदि का भ्रमण किया। शिक्षक, छात्र व कर्मचारियों से संवाद भी किया। सेना के प्रतिनिधिमंडल ने कहा कि एएमयू की परंपरा प्रेरणादायक है। वह भविष्य में दोबारा एएमयू का भ्रमण करेंगे और सेना भर्ती बोर्ड के अधिकारी यहां आकर छात्रों को सेना में भर्ती के लिए प्रोत्साहित करेंगे। बताते चलें कि सेना के अधिकारी अलीगढ़ में हुई डिफेंस कॉरिडोर समिट में भाग लेने के लिए आए हुए थे। इस कार्यक्रम में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के साथ-साथ रक्षा मंत्री निर्मला सीतारमण, रक्षा राज्यमंत्री, उत्तर प्रदेश के औद्योगिक मंत्री सतीश महाना आदि आए थे। खास सात यह है कि जल सेना, थल सेना व वायु सेना के अधिकारियों के साथ-साथ यहां नए-नए उपकरणों के स्टाल लगाए गए थे। ताकि लोगों को अधिक से अधिक जानकारी हो सके।

खास बात यह है कि सेना में मुस्लिम समुदाय के युवा कम से कम भर्ती होते हैं। इसलिए सेना के अधिकारियों ने कुलपति से मुलाकात कर युवाओं को सेना में शामिल होने के लिए प्रोत्साहित करने की बात कही है।

Posted By: Jagran