अलीगढ़, जागरण संवाददाता। शहरी व ग्रामीण इलाकों में प्राथमिक व गंभीर स्वास्थ्य सेवाओं में सुधार के मद्देनजर केंद्र सरकार काफी गंभीर है। इसके लिए प्रधानमंत्री आत्मनिर्भर स्वस्थ भारत योजना शुरू की गई है। इससे शहर व ग्रामीण क्षेत्र में स्वास्थ्य सेवाएं जल्द सुदृढ़ होंगी। हर मरीज को आपातकालीन स्थिति में जिला मुख्यालय या हायर सेंटर रेफर नहीं करना पड़ेगा। सभी सुविधाएं सरकारी अस्पताल में ही मिल जाएंगी। उक्त विचार शहर विधायक संजीव राजा ने सोमवार को प्रधानमंत्री आत्मनिर्भर स्वस्थ भारत योजना के वर्जुअल उद्घघाटन समारोह के दौरान कही।

पांच लाख से अधिक आबादी वाले जिले में होगी सेंटरों की स्‍थापना

दीनदयाल अस्पताल के सभागार में आयोजित कार्यक्रम के दौरान शहर विधायक ने कहा, सरकार सभी राज्यों में 11,024 शहरी स्वास्थ्य व उपचार केंद्रों की स्थापना कर ही है। पांच लाख से अधिक की आबादी वाले जिलों में क्रिटिकल केयर सेंटरों की स्थापना की जाएगी। सीएमओ डा. आनंद उपाध्याय ने बताया कि योजना का उद्देश्य ग्रामीण क्षेत्रों में हेल्थ एंड वेलनेस सेंटरों का सुंदरीकरण, शहरी क्षेत्रों में ब्लाक स्तरीय पब्लिक हेल्थ इकाइयों की स्थापना, नए शहरी हेल्थ एंड वेलनेस सेंटर की स्थापना व जिला स्तर पर इंटीग्रेटेड पब्लिक हेल्थ क्लब की स्थापना की जाएगी। यह योजना राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन से अलग होगी।सीएमएस डा. अनुपम भास्कर ने बताया कि इस योजना से भारत में स्वास्थ्य सेवाओं की तस्वीर बदल जाएगी।

ये लोग रहे उपस्‍थित

इस मौके पर डीपीएम एमपी सिंह, डीसीपीएम कमलेश कुमार चौरसिया, वित्त सलाहकार रागिनी सिंह, अर्बन पीएचसी पला साहिबाबाद की प्रभारी चिकित्साधिकारी डा. अंशु सक्सेना, प्रधानमंत्री मातृ वंदना योजना की जिला कार्यक्रम समन्वयक गीतू हरकुट, अर्बन हेल्थ कोऑर्डिनेटर अकबर खान, डीईआईसी मैनेजर मुनाजिर हुसैन, फैमिली प्लानिंग लाजिस्टिक मैनेजर वैभव मिश्रा, एसटीएस रविंद्र हरकुट, मयंक भारद्वाज आदि मौजूद रहे।

Edited By: Anil Kushwaha