अलीगढ़, जागरण संवाददाता। कक्षा एक से आठवीं तक के सरकारी स्कूलों में अब छात्र-छात्राओं को समायोजित होकर बैठने से छुटकारा मिलने वाला है। जिले में जर्जर भवनों के निर्माण काे ध्वस्त कराने के बाद विद्यार्थियों को उसी परिसर में उपलब्ध अतिरिक्त कक्षा में एक साथ बैठाकर या आस-पास के स्कूल में समायोजित कर पढ़ाया जा रहा है। मगर अब 70 विद्यालयों में भवन निर्माण की स्वीकृति मिल गई है। कार्यदायी संस्था तय होने के बाद यहां निर्माण शुरू करा दिया जाएगा। एक कक्षा में मानक से अधिक विद्यार्थी बैठने को मजबूर नहीं होंगे।

छात्र संख्या को लेकर संतुलन फिर से स्थापित होगा

जिले के 12 ब्लाकों में 70 विद्यालयों के भवनों का निर्माण होने से प्रत्येक ब्लाक में लगभग चार से छह विद्यालयों की व्यवस्था होगी। किसी ब्लाक में तीन तो किसी में छह ऐसे विद्यालय हैं। इससे सभी ब्लाकों में छात्र संख्या को लेकर संतुलन फिर से स्थापित हो जाएगा। शिक्षक भी विद्यार्थियों पर ध्यान केंद्रित कर सकेंगे। जिला समन्वयक निर्माण ज्ञानेंद्र गौतम ने बताया कि अभी जिले में 179 सरकारी स्कूल ऐसे भी चिह्नित किए गए हैं, जहां कुछ मरम्मत का कार्य किया जाना है।

आवश्यकता अनुरूप कक्षाएं उपलब्ध कराई जाएंगी

वर्षा के चलते ये काम अटक गया था, अब बीएसए के निर्देशन में जल्द काम शुरू होगा। स्कूलों में जो निर्माण ध्वस्त किए गए थे वहां कक्षा-कक्ष का निर्माण कार्य भी शासन से कार्यदायी संस्था निर्धारित होते ही जल्द शुरू कराया जाएगा। बीएसए सतेंद्र कुमार ढाका ने बताया कि स्कूलों में निमार्ण कार्य कराकर विद्यार्थियों को जल्द आवश्यकता अनुरूप कक्षाएं उपलब्ध कराई जाएंगी।

Edited By: Sandeep Kumar Saxena

जागरण फॉलो करें और रहे हर खबर से अपडेट