अलीगढ़ (जेएनएन)।  पश्चिमी उत्तर प्रदेश में हाईकोर्ट बेंच के लिए 39 साल से संघर्ष कर रहे 22 जिलों के वकीलों ने बुधवार को हड़ताल पर रहकर वाहन रैली निकाली। यहां दीवानी में जुटे वकील तिरंगा झंडा लेकर नारेबाजी करते हुए कलक्ट्रेट पहुंचे। इस दौरान आतंकियों के विरुद्ध एअर सर्जिकल स्ट्राइक से उत्साहित वकीलों ने भारतीय वायु सेना के जज्बे को भी सलाम किया।

वाहन रैली निकाली

हाईकोर्ट बेंच स्थापना केंद्रीय संघर्ष समिति के आह्वान पर पश्चिमी उप्र में वकीलों ने हड़ताल पर रहकर वाहन रैली निकाली। दोपहर एक बजे द अलीगढ़ बार अध्यक्ष कैलाश बाबू गुप्ता व महासचिव अनूप कौशिक की अगुवाई में बड़ी संख्या में वकील नारेबाजी करते हुए कलक्ट्रेट पहुंचे। यहां महासचिव ने कहा कि 39 साल से खंडपीठ की मांग की जा रही है, लेकिन सरकार जनहित की अनदेखी कर रही है। एक ओर गांव, तहसीलों तक सस्ता सुलभ न्याय देने की बात की जा रही है, वहीं वादकारियों को न्याय पाने के लिए 700 किमी दूर प्रयागराज जाना पड़ता है। बार अध्यक्ष ने कहा कि बेंच के लिए वकीलों का संघर्ष जारी रहेगा। रैली में अंशुमान गौतम, ब्रजेश रौतेला, राकेश गौड़, कुलदीप चौहान, चंद्राशु पाठक, विनोद गौतम, योगेश सारस्वत, कुंवरपाल सिंह, जुल्फिकार भुट्टो, वरुण चौधरी, नवीन शर्मा, विनय कुमार आदि वकील शामिल रहे।

वकील के हमलावर  को भेजा गया जेल 

दीवानी परिसर में मंगलवार सुबह वकील पर हुए हमले में मुकदमा दर्ज कर पुलिस ने आरोपित को जेल भेज दिया।  देहलीगेट क्षेत्र के नगला मसानी निवासी वकील उदयवीर सिंह राजपूत का चेंबर हेरिटेज बिल्डिंग के सामने है। उदयवीर दहेज उत्पीडऩ के मुकदमे में एक महिला की ओर से पैरवी कर रहे हैं। आरोप है कि इसी मुकदमे में होली चौक पला साहिबाबाद निवासी दूसरा पक्ष फैसले का दबाव बना रहा है। महिला का पति धीरज दो साथियों के साथ सुबह साढ़े 11 बजे चेंबर में आया और पत्नी से मुलाकात करने का दबाव बनाने लगा। विरोध करने पर वकील की गर्दन पर चाकू मार दिया। साथी वकीलों ने धीरज को पकड़ कर पुलिस के हवाले कर दिया था। पीडि़त की तहरीर पर मुकदमा दर्ज कर पुलिस ने धीरज को जेल भेज दिया। 

 

आज़ादी की 72वीं वर्षगाँठ पर भेजें देश भक्ति से जुड़ी कविता, शायरी, कहानी और जीतें फोन, डाउनलोड करें जागरण एप

Posted By: Mukesh Chaturvedi