अलीगढ़ जागरण संवाददाता। Aggarwal Samaj protested महाराजा अग्रसेन शोभायात्रा के स्वागत द्वार उखाड़ने से आक्रोशित अग्रवाल समाज ने गुरुवार काे जमकर प्रदर्शन किया। अग्रसेन चौक पर जीटी रोड कर नगर निगम के विरुद्ध नारेबाजी की। अपर नगर आयुक्त अरुण कुमार गुप्त के निलंबन की मांग करने लगे।

अपर नगर आयुक्‍त का दौड़ाया

मान मनोव्वल को आए अपर नगर आयुक्त को भीड़ ने दौड़ा दिया। धक्का-मुक्की, खींचतान की गई। अपर नगर आयुक्त ने एसपी सिटी दफ्तर में पहुंचकर खुद को बचाया। अग्रवाल युवा संगठन ने अपर नगर आयुक्त के विरुद्ध थाना बन्नादेवी में तहरीर दी है। वहीं, अपर आयुक्त ने भी अज्ञात लोगों के खिलाफ तहरीर दी है। एसडीएम कोल, एसीएम व अन्य अफसरों के आश्वासन पर करीब चार घंटे बाद प्रदर्शनकारी हटे।

यह है मामला

अग्रवाल समाज अग्रकुल प्रवर्तक महाराजा अग्रसेन जयंती महोत्सव मना रहा है। श्री अग्रवाल युवा संगठन द्वारा दो अक्टूबर को भव्य शोभायात्रा निकाली जाएगी। इसी शोभायात्रा के शहर में जगह-जगह स्वागत द्वार लगाए गए थे। मंगलवार रात नगर निगम की टीम ने स्वागत द्वार बुलडोजर से उखाड़ दिए। बुधवार सुबह कई स्वागत द्वार नालियों में पड़े मिले। महाराज अग्रसेन के छविचित्र लगे बैनर भी फटे हुए मिले। इससे Aggarwal Samaj protested अग्रवाल समाज में आक्रोश पनप गया।

भीड़ ने की धक्‍का-मुक्‍की

अपर नगर आयुक्त के आदेश पर स्वागत द्वार उखाड़ने की जानकारी होने पर संगठन के पदाधिकारियों ने विरोध शुरू कर दिया। दिनभर बैठकों का दौर चलने के बाद प्रदर्शन का निर्णय लिया गया। दोपहर 12 बजे अग्रसेन चौक पर अग्रवाल समाज के लोग जुटने लगे। देखते ही देखते रसलगंज, जीटी रोड स्थित चौक पर भारी भीड़ जमा हो गई। चौक के चारों ओर लोग धरने पर बैठ गए और नारेबाजी करने लगे। नारेबाजी के बीच जब अपर नगर आयुक्त धरना स्थल पर पहुंचे तो युवाओं का आक्रोश और बढ़ गया। तमाम आरोप लगाकर युवाओं की भीड़ उनके साथ धक्का-मुक्की करने लगी। उन्हें दौड़ा दिया।

Aggarwal Samaj protested मारो-मारो का मचाया शोर

मारो-मारो का शोर सुनाई देने लगा। अग्रवाल समाज के कुछ वरिष्ठजनों ने युवाओं काे शांत कराने का प्रयास किया। इधर, निगम निगम कर्मी विजय गुप्ता व अन्य कर्मचारियों के सुरक्षा घेरे में अपर नगर आयुक्त पास ही एसपी सिटी कार्यालय पहुंचे। कर्मचारियों ने गेट लगा दिया। बाहर धरना-प्रदर्शन जारी रहा। प्रदर्शनकारी अपर नगर आयुक्त का निलंबन, उनके द्वारा माफी मांगने और स्वागत द्वार पुन: लगाए जाने की मांग करने लगे। साढे तीन बजे पहुंचे सहायक नगर आयुक्त ठाकुर प्रसाद, एसडीएम काेल व अन्य अफसरों ने प्रदर्शनकारियों को समझाया। सहायक नगर आयुक्त ने स्वागत द्वार तोड़ जाने पर सार्वजनिक रूप से खेद जताया। प्रशासनिक अफसरों ने निलंबन की मांग पर जांच का आश्वासन दिया गया है। इसके बाद प्रदर्शनकारी शांत हुए।

एक माननीय को लेकर गुस्सा

पूरे घटनाक्रम में एक माननीय की भूमिका को संदिग्ध बताया गया। भीड़ में चर्चा रही कि भाजपा के एक पदाधिकारी को लाभ पहुंचाने के लिए अपर नगर आयुक्त पर स्वागत द्वार तोड़ने का दबाव था। इसमें नगर निगम के एक ठेकेदार की भूमिका भी रही है।

जनप्रतिनिधियों के विरुद्ध नारेबाजी

प्रदर्शनकारियों के निशाने पर जनप्रतिनिधि भी रहे। धरने को संबोधित कर रहे लोगों ने कहा कि अग्रवाल समाज सांसद, एमएलसी, विधायकों सहित अन्य माननीयों को सिरमौर बनाकर रखता है। चुनाव में उन्हें जिताने के लिए तन, मन, धन से सहयोग करता है। अग्रवाल समाज को नगर निगम ने अपमानित किया है, ऐसे मौके पर वे साथ नहीं हैं। तभी विधायकों के विरुद्ध नारेबाजी होने लगी। कुछ देर बाद कोल विधायक अनिल पराशर, पूर्व विधायक संजीव राजा, पूर्व महापाैर शकुंतला भारती पहुंचे।

नगर निगम द्वारा स्वागत द्वार तोड़ना दुर्भाग्यपूर्ण है। जिस अधिकारी के इशारे पर ये तोड़े गए हैं, उसके विरुद्ध कठोर कार्रवाई के लिए नगर आयुक्त को कहा है। उन्होंने कार्रवाई का आश्वासन के साथ पुन: स्वागत द्वार लगाने के आदेश दिए हैं। ये कृत्य बहुत निंदनीय है। महापुरुषों की जयंती मनाना सनातन धर्म की परंपरा रही है। हम भी ऐसे आयोजनों में भाग लेते हैं।

सतीश गौतम, सांसद

महाराजा अग्रसेन जयंती पर लगाए गए स्वागत द्वार षड़यंत्र के तहत तोड़े गए हैं। ताकि अग्रवाल समाज को अपमानित किया जा सके। इसमें कुछ नेताओं का भी हाथ है। समय आने पर इनके चेहरे उजागर होंगे। तीन मांगे रखी गई थीं। धरना स्थल पर आकर सहायक नगर आयुक्त ने माफी मांगी है। अपर नगर आयुक्त के विरुद्ध एफआइआर दर्ज कराने का अफसरों ने आश्वासन दिया है।

डा. राजीव अग्रवाल, पूर्व महापौर प्रत्याशी भाजपा

अग्रवाल समाज को अपमानित करने वाले अपर नगर आयुक्त को जब तक निलंबित नहीं किया जाएगा, तब तक अग्रवाल समाज संघर्ष करेगा। प्रशासन ने कुछ समय मांगा है। एफआइआर दर्ज कराने के लिए तहरीर दे दी है। इसमें कहा है कि अपर नगर आयुक्त ने गलत मंशा से स्वागत द्वार तुड़वाए हैं। जन भावनाएं आहत हुईं। लोगों ने विरोध किया तो उन्हें धमकाया गया।

- ऋिषभ गर्ग, अग्रवाल युवा संगठन

धरने में यह रहे शामिल

पूर्व महापौर ओपी अग्रवाल, विजय अग्रवाल, राजीव अग्रवाल, अतुल अग्रवाल, विशाल गर्ग, प्रवीन अग्रवाल, मुकेश सिंघल, सेतु अग्रवाल, मनोज अग्रवाल, संजीव बंसल, अंबरीश गर्ग, मनीष अग्रवाल वूल, मोनू अग्रवाल, प्रह्लाद अग्रवाल, हेमंत गर्ग, अग्रवाल युवा संगठन के अध्यक्ष अंकित गुप्ता, महामंत्री अभिनव अग्रवाल, भाजयुमो महानगर अध्यक्ष अमन गुप्ता, हर्षद हिंदू, कोषाध्यक्ष नितेश अग्रवाल, मीडिया प्रभारी शरद बंसल, प्रमोद अग्रवाल, सौरभ सिक्स संस, सुशील गुप्ता, अन्नू बीडी, अमित सहित बड़ी संख्या में अग्रवाल समाज व सर्वसमाज के लोग भी मौजूद रहे।

अधिकारी से अभद्रता पर भड़के निगम कर्मी

अपर नगर आयुक्त से हुई अभद्रता पर नगर निगम कर्मचारी भड़क गए। 24 घंटे में प्रदर्शनकारियों के विरुद्ध कार्रवाई न होने पर काम बंद करने की चेतावनी दी है। सेवाभवन में जुटे नगर निगम कर्मचारी कल्याण संघ के पदाधिकारियों ने धरने पर बैठक नारेबाजी की। महामंत्री विजय गुप्ता ने कहा कि नगर निगम अधिकारी और कर्मचारियों की एकता को ललकारा गया है। ये बर्दाश्त नहीं किया जाएगा। कार्रवाई नहीं हुई तो हड़ताल कर आंदोलन करेंगे। अध्यक्ष राबिन केला ने कहा घटना का पुरजाेर विरोध होगा। घटना में शामिल लोगों पर मुकदमा दर्ज होना चाहिए। तहरीर दे दी है। पूर्व अध्यक्ष संजय सक्सेना ने कहा कि पुलिस व प्रशासन ने साथ नहीं दिया। कर्मचारियों में इनके प्रति भी बहुत रोष है। सीसीटीवी फुटेज के साक्ष्यों के आधार पर दोषियों के विरूद्ध मुकदमा दर्ज कर तत्काल कार्रवाई की जाएगी। सफाई कर्मचारी नेताओं ने भी कार्रवाई की मांग करते हुए सफाई कार्य ठप करने की चेतावनी दी है।

भीड़ की नाराजगी भांप न सके अधिकारी

पुलिस, प्रशासन और नगर निगम अधिकारी भी भीड़ की नाराजगी भांप न सके। नगर आयुक्त अवकाश पर हैं। प्रशासनिक अधिकारी अपर नगर अायुक्त को मौके पर बुलाकर भीड़ को समझाने का दबाव बनाने लगे। सुरक्षा का भरोसा भी दिलाया। तीन कर्मचारियों के साथ अपर नगर आयुक्त मौके पर पहुंचे तो उन्हें घेर लिया। न उनके साथ पुलिस थी और न ही कोई प्रशासनिक अफसर। निगम कर्मचारियों ने ही उन्हें बचाया।

डिप्टी सीएम से की शिकायत

भाजपा अल्पसंख्यक मोर्चा के क्षेत्रीय मंत्री आमिर रशीद ने पूरे प्रकरण की शिकायत डिप्टी सीएम केशव प्रसाद मोर्य से की है। क्षेत्रीय मंत्री ने कहा कि नगर निगम ने एक बड़े आयोजन के स्वागत द्वार तोड़कर निंदनीय कार्य किया है। शहर भर में नियम विरुद्ध यूनी पोल, होर्डिंग लगे हैं, वे क्यों नहीं तोड़े जाते। डिप्टी सीएम से मोबाइल पर वार्ता कर प्रकरण से अवगत कराते हुए अपर नगर आयुक्त के निलंबन की मांग की है।

Edited By: Sandeep Kumar Saxena

जागरण फॉलो करें और रहे हर खबर से अपडेट