अलीगढ़, जेएनएन । कोतवाली नगर क्षेत्र के मकदूम नगर से पकड़े गए रोहिंग्या के बाद एलआइयू अपने स्तर से इनका कनेक्शन खंगालने में जुटी हुई हैं। मुखबिर की मदद से रोहिंग्या की हर गतिविधि पर नजर रखी जा रही है। चूंकि विशेष जांच एजेंसियां कार्रवाई में जुटी हैं तो अलीगढ़ पुलिस फिलहाल एटीएस की रिपोर्ट का इंतजार है। रिपोर्ट में जो भी बातें सामने आएंगी, उसी आधार पर पुलिस भी सक्रिय होकर जांच करेगी। फिलहाल पुलिस रोहिंग्या के सत्यापन में लगी है।

एटीएस की टीम ने म्‍यांमार के दो राेहिंग्‍या को पकड़ा

एटीएस की टीम ने अलीगढ़ में छापेमारी के बाद म्यांमार के दो रोहिंग्या रफीक व आमीन को गिरफ्तार किया था। अगले ही दिन टीम ने मेरठ व बुलंदशहर से चार रोहिंग्या को पकड़ा था। इनमें से एक आरोपित की कई बार अलीगढ़ आने -जाने की पुष्टि हुई। पकड़े गए रोहिंग्या सोना व महिला तस्करी में शामिल थे। ऐसे में खुफिया टीमें रोहिंग्या का अलीगढ़ से बाहरी जिलों का कनेक्शन तलाश रही हैं। पता लगाया जा रहा है कि आरोपित रफीक व आमीन ने फर्जी दस्तावेज किसकी मदद से बनवाए थे और वो अलीगढ़ में किसकी मदद से रह रहे थे। पुलिस अलीगढ़ के अलावा पश्चिमी जिलों व पंजाब से इनके कनेक्शन को खंगाल रही है। हालांकि अभी तक जांच में अलीगढ़ पुलिस की कोई भूमिका नहीं है। फिर भी पुलिस ने इनका सत्यापन शुरू कर दिया है। एसएसपी कलानिधि नैथानी का कहना है कि एटीएस की ओर से जो रिपोर्ट मिलेगी, उसी के आधार पर जांच की जाएगी।

रोहिंग्या के तीन परिवार रवाना

रफीक व आमीन की गिरफ्तारी के बाद एक तरफ उनकी पत्नी म्यांमार वापस जाने के लिए एलआइयू दफ्तर के चक्कर लगा रही हैं तो दूसरी तरफ तीन परिवार अलीगढ़ से रवाना भी हो गए। सूत्रों के मुताबिक बुधवार सुबह मोहम्मद हारिस, इस्माइल व अलिफ हुसैन अपने परिवार के साथ अलीगढ़ से निकल गए। हालांकि एलआइयू को परिवार के जाने की खबर मिल गई है। इधर, बुधवार को भी रफीक व आमीन की पत्नी एलआइयू के बाद एटीएस के दफ्तर पहुंची और म्यांमार वापस जाने की गुहार लगाई।

मतांतरण प्रकरण में भी खुफिया तंत्र सक्रिय

नोएडा से दबोचे गए उमर गौतम के पकड़े जाने के बाद खुफिया तंत्र मतांतरण के बिंदु पर भी जांच कर रहा है। बताया जा रहा है कि अलीगढ़ के एक युवक का मतांतरण होना था। लेकिन, इस बात की पुष्टि नहीं हो सकी है। फिर भी स्थानीय जांच एजेंसियां इसकी पड़ताल में जुट गई हैं।

Edited By: Anil Kushwaha