अलीगढ़ (जेएनएन)।  बुधवार की सुबह की शुरुआत जश्न के साथ हुई। गली-मुहल्ले से भारतीय वायुसेना की बहादुरी की चर्चा आम होते हुए दुकानों और चौराहों तक पहुंच गई। चाय की दुकान पर सुबह दस बजे सिर्फ भारतीय सेना की तारीफ के पुल बांधे जा रहे थे। राहगीरों में भी वही बात जुबां पर थी। हर तरफ भारतीय सेना का यशोगान हो रहा था, मगर दोपहर के बाद माहौल एकदम बदल गया। भारतीय वायुसेना के एक पायलट के पाकिस्तानी सैनिकों द्वारा पकड़े जाने की खबर से हर चेहरों पर मायूसी छा गई। विजय उत्सव की चर्चा बंद होकर पायलट की सकुशलता से लौटने के लिए प्रार्थनाएं शुरू हो गईं। कई कार्यक्रम स्थगित कर दिए गए।

दोपहर बाद मिली खबर
बुधवार सुबह अतरौली अड्डे स्थित चाय की दुकान पर चर्चाएं थीं कि भारतीय वायुसेना ने अपनी ताकत दिखा दी। दिनेश कुमार ने कहा कि यदि पाकिस्तान ने कोई हरकत की तो फिर मुंहतोड़ जवाब दिया जाएगा। दोपहर 12 बजे तक सेंटर प्वाइंट, मैरिस रोड, रेलवे रोड, विष्णुपुरी, बारहद्वारी, रघुवीरपुरी आदि स्थानों पर पीएम मोदी की तारीफ और भारतीय सेना की बहादुरी के पुल बांधे जा रहे थे। मगर, दोपहर तीन बजे पाकिस्तानी सैनिकों द्वारा भारतीय पायलट के पकड़े जाने की खबर से हर चेहरे की मुस्कान चली गई। मायूसी में धीरे-धीरे पूरा शहर आ गया। शाम तक बस यही चर्चा कि पाकिस्तान पायलट के साथ कुछ भी कर सकता है। राष्ट्र भक्त वीर-वीरांगना संस्था की प्रमुख स्नेहा शर्मा ने रामलीला मैदान में शाम पांच बजे होने वाली आतिशबाजी के कार्यक्रम को स्थगित कर दिया। स्नेहा से कहा कि जिस प्रकार से पायलट की पिटाई हो रही है, उससे दिल भर आया। हम जश्न नहीं मना सकते हैं। सभी को फोन करके मना कर दिया गया। वहीं, पतंजलि परिवार की ओर से शाम छह बजे से रामघाट रोड स्थित एसएमबी कॉलेज से विजय जुलूस निकाला जाना था, उसे भी स्थगित कर दिया गया। भूपेंद्र शर्मा ने कहा कि पायलट के लहूलुहान चेहरे को देखकर मन द्रवित हो गया। फोन करके कार्यक्रम को रुकवा दिया गया।

सोशल मीडिया पर प्रार्थना
पायलट के पकड़े जाने के बाद से सोशल मीडिया पर वीडियो वायरल हो गया। उसके बाद तो पाक सेना की भत्र्सना होने लगी। वाट्सएप व फेसबुक पर पायलट की कुशलता के लिए प्रार्थनाएं होने लगीं। अतुल सिंह ने लिखा प्रभु देश के जवान को सकुशल वापस लौटा दो। स्मिता सिंह ने कहा कि हम सभी को इस समय सिर्फ प्रार्थना करनी चाहिए।

तिरंगा यात्रा निकालकर मनाया जश्न
भारतीय वायु सेना के द्वारा पाकिस्तान में घुसकर आतंकी शिविरों को नष्ट करने पर दूसरे दिन भी लोगों ने जश्न मनाया। तिरंगा यात्रा निकाली गई, मिठाई बांटकर खुशियां मनाई गई।करणी सेना ने दोपहर तीन बजे क्वार्सी चौराहे से तिरंगा यात्रा निकाली। कार्यकर्ता खुली जीप और बाइकों पर तिरंगा लिए निकले। यह यात्रा रामघाट रोड, मैरिस रोड होते हुए सेंटर प्वाइंट पहुंची। सेना के कार्यकर्ताओं ने जोशीले नारे लगाए। भारत माता, वंदेमातरम के जयघोष से पूरा माहौल गूंज उठा। सेना के मंडल अध्यक्ष दुष्यंत सिंह व जिलाध्यक्ष तरुण चौहान ने कहा कि भारत की सेना ने पाकिस्तान को मुंहतोड़ जवाब दिया है। लोकेश जादौन, मुदित प्रताप सिंह, अनिल प्रताप सिंह, सौरभ सिंह, अश्वनी सिंह आदि थे। 

सेना की बहादुरी पर गर्व 
सेंटर प्वाइंट व्यापार मंडल की ओर से चौराहे पर मिठाई बांटी गई। संगठन के अध्यक्ष विवेक बघाई ने कहा कि हमें अपनी सेना की बहादुरी पर गर्व है। महामंत्री दीपक गर्ग ने कहा कि पाक को अपने नापाक इरादे छोड़कर इंसानियत के रास्ते पर चलना चाहिए। अशोक कुमार, विजय गुप्ता, कमल बगाई, विपिन गर्ग, दीनानाथ सिंधी, विपिन गुप्ता, डॉ. नवीन शर्मा, योगेश वाष्र्णेय, अनिल सिंधी, डॉ. गौरव अग्रवाल आदि थे।

सेना ने दिखा दी अपनी ताकत 
उत्तर प्रदेश ब्राह्मण महासभा के पदाधिकारियों ने कचहरी गेट नंबर एक पर मिठाई बांटी। मंडल प्रभारी मोहित नगाइच, जिलाध्यक्ष अश्वनी पंडित ने कहा कि भारत की सेना ने अपनी ताकत दिखा दी। संजीव शर्मा, देवेश गौतम, कृष्ण भारद्वाज, वर्षों गौड़ आदि थे। मां सरस्वती सांस्कृतिक क्लब के तत्वाधान में नौरंगाबाद स्थित कार्यालय पर मिठाई बांटी गई। अध्यक्ष रेशू अग्रवाल, अधिवक्ता भुवनेश अग्रवाल, मुकेश कुमार, आरती गुप्ता आदि थे।

सावधानी से लेना है काम
स्वर्ण जयंती नगर में आयोजित विचार गोष्ठी में डॉ. राजेश कुमार ने कहा कि भारत की सेना ने अपना पराक्रम को दिखा दिया है, मगर हमें सावधानी से काम लेना है। क्योंकि वह कोई भी घातक कदम उठा सकता है। डॉ. देवदत्त शर्मा, डॉ. धर्मेंद्र सिंह, डॉ. एमपी सिंह, डॉ. विमलेश, डॉ. डीके सिंह, डॉ. राजेंद्र प्रसाद, डॉ. वेद प्रकाश, वेदांश भारद्वाज, वाग्मिता, रचना शर्मा आदि थे।

ठाकरे के सपनों का हो भारत
शिवसेना के प्रदेश सचिव मांगेराम शर्मा ने कहा कि वर्षों की दिलों की ख्वाहिश भारतीय सेना ने पूरी कर दी। हम सभी की इ'छा है कि बाल ठाकरे के सपनों का भारत बने। महानगर प्रमुख महेश चंद्र शर्मा, विनोद वशिष्ठ, पंकज शर्मा, अविनाश, हिमांशु, गौरव शर्मा आदि मौजूद थे।

'दहशत में कटती रात, फोन  आने पर घबरा जाता है दिलÓ
हर रात दशहत में कटती है, फोन आने पर दिल घबरा उठता है। ये शब्द हैं सुरेंद्र नगर के राणवटीला निवासी सुमनलता के। सुमनलता के पति दिनेश शर्मा केंद्रीय औद्योगिक सुरक्षा बल (सीआइएसएफ) में हैं। इस समय जम्मू-कश्मीर के किश्तवाड़ में तैनात हैं। छह मार्च को वे छुट्टïी पर आने वाले थे। सीमा पर तनाव को देखते हुए छुट्टी रद हो गई।दिनेश की 15 महीने पहले किश्तवाड़ में तैनाती हुई है। इससे पहले लेह-लद्दाख, राजस्थान आदि में भी रह चुके हैं। बुधवार दोपहर उनकी पत्नी सुमनलता से बातचीत हुई। उन्होंने बताया कि पति से कुछ ही देर पहले बात हुई है। बता रहे थे कि सीमा पर तनाव है, इसलिए अलर्ट रहने को कहा गया है। सुमनलता ने बताया कि इस समय दिन तो जैसे-तैसे कट जाता है, रात में नींद नहीं आती है। निगाहें टीवी की तरफ रहती हैं। फोन आते ही दिल घबरा जाता है कि कहीं कोई बात तो नहीं। दिन में दो बार पति से बात होती है। ड्यूटी पर फोन रखना मना है। कई बार नेटवर्क नहीं मिलता या फिर ड्यूटी से समय नहीं मिल पाता है तो बात नहीं हो पाती है। परिवार के लोगों ने कई बार कहा कि नौकरी छोड़कर चले आओ, मगर वो कहते हैं कि देश की सेवा करने का मौका हर किसी को तो नहीं मिलता। सीआइएसफ में आगे बढऩा सिखाया जाता है, पीछे हटना नहीं। पुलिस में भी मौका मिला था, मगर नहीं गए। बोले, देश सेवा करूंगा। जम्मू-कश्मीर में तीन साल की तैनाती है। दिनेश के दो बेटे हैं। बड़े गौरव शर्मा प्राइवेट नौकरी करते हैं। छोटा बेटा सौरभ पढ़ाई कर रहा है। सुमनलता कहती हैं कि पति की बहादुरी भरी बात सुनकर गर्व भी होता है।

आज़ादी की 72वीं वर्षगाँठ पर भेजें देश भक्ति से जुड़ी कविता, शायरी, कहानी और जीतें फोन, डाउनलोड करें जागरण एप

Posted By: Mukesh Chaturvedi