अलीगढ़, जागरण संवाददाता। शासन के पत्र में वकीलों के लिए अशोभनीय टिप्पणी के विरोध में बुधवार को दीवानी न्यायालय में अधिवक्ता न्यायिक कार्य से विरत रहे। अध्यक्ष जगदीश सारस्वत ने मुख्यमंत्री से विशेष सचिव को हटाने व माफी मांगने की मांग की।

अधिवक्‍ताओ में रोष

बुधवार को दि अलीगढ़ बार एसोसिएशन की बैठक बार के कार्यालय में हुई। इसकी अध्यक्षता अध्यक्ष जगदीश सारस्वत, जबकि संचालन महासचिव देवेंद्र पाल सिंह जादौन ने किया। इसमें शासन के पत्र पर चर्चा की गई, जिसमें न्यायालयों में कार्यरत अधिवक्ताओं के संदर्भ में अशोभनीय टिप्पणी की गई है। अध्यक्ष ने कहा कि विशेष सचिव के पत्र में कहा गया है कि अधिवक्ताओं की ओर से किए जाने वाले अराजकतापूर्ण कृत्यों का तत्काल संज्ञान लिया जाना सुनिश्चित करें। इससे पश्चिमी जिलों के न्यायालयों के अधिवक्ताओं में रोष है। इसे देखते हुए बुधवार को हाईकोर्ट बेंच स्थापना संघर्ष समिति के आह्वान पर अधिवक्ता न्यायिक कार्य से विरत रहे। साथ ही मांग की गई है कि केंद्रीय संघर्ष समिति ठोस निर्णय ले। बैठक में वरिष्ठ उपाध्यक्ष संजीव कुमार शर्मा, डा. अवसार किदवई, श्याम सारस्वत, सुधीर चौधरी, पूर्व अध्यक्ष बृजेश कुमार सिंह, संजय पाठक, काजी परवेज, कुलदीप यादव, लोकेश उपाध्याय, कालीचरण शर्मा आदि मौजूद थे।

एएमयू छात्र की केंद्रीय भूजल बोर्ड में युवा वैज्ञानिक के रूप में नियुक्ति

अलीगढ़ : एएमयू के भूविज्ञान विभाग के रिसर्च और स्नातकोत्तर छात्रों ने भूविज्ञान के क्षेत्र में विभिन्न प्रतियोगी परीक्षाओं में सफल होकर हमेशा विश्वविद्यालय का झंडा बुलंद किया है। सफलता की इस परम्परा को निभाते हुए विभाग के शोधार्थी डा. शमशाद अहमद ने भारत सरकार के जल शक्ति मंत्रालय के जल संसाधन विभाग के अंतर्गत केंद्रीय भूजल बोर्ड में युवा वैज्ञानिक के रूप में नियुक्ति पाने में सफलता प्राप्त की है। भूविज्ञान विभाग के अध्यक्ष प्रो. कुंवर फराहीम खान ने डा. शमशाद को उनकी सफलता पर बधाई दी। कहा उनका चयन उनकी कड़ी मेहनत और विभाग के शिक्षकों के सक्षम मार्गदर्शन का प्रमाण है।

Edited By: Sandeep Kumar Saxena