अलीगढ़ (जेएनएन)। अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय में नौकरी लगवाने के नाम पर 11 लोगों से 44 लाख रुपये ठगने का मामला प्रकाश में आया है। मामले में एएमयू का एक कर्मचारी, एटा निवासी कथित नर्स सहित छह लोग नामजद किए गए हैं।

यह है मामला

शहर कोतवाली क्षेत्र के गांव शीतलपुर निवासी उमेश ङ्क्षसह ने पुलिस को बताया कि एटा जिले के गांव मिलावली निवासी जुगेंद्र ङ्क्षसह से उसकी मित्रता थी। वर्ष 2017 में अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय में स्टोरकीपर, वायरलैस आपरेटर, वार्ड बॉय, माली और स्टाफ नर्स के पदों पर भर्ती का विज्ञापन निकला था। जुगेंद्र ने बताया कि उसकी बहन विनीता अलीगढ़ मेडिकल कालेज में नर्स है। एएमयू का कर्मचारी सलीम निवासी जौहराबाद गली नंबर-15 अलीगढ़ उसका परिचित है। जुगेंद्र ने नौकरी लगवाने का झांसा दिया।

ऐसे ठगे रुपये

उमेश का आरोप है कि वर्ष 2018 में जुगेंद्र, उसकी बहन विनीता, सरिता पत्नी जुगेंद्र, एएमयू का कर्मचारी सलीम, उसकी पत्नी नेहा उर्फ निशा और सलीम का साला दिलदार खां गांव शीतलपुर पहुंचे। नौकरी के नाम पर इन्होंने किसी से पांच लाख, किसी से तीन लाख रुपये ले लिए। 11 लोगों से कुल 44 लाख रुपये की वसूली कर ली। कई महीनों बाद जब नौकरी नहीं लगी तो लोगों ने नामजदों से अपना पैसा मांगा। पैसा वापस न मिलने पर ठगी के शिकार लोगों ने रिपोर्ट दर्ज कराई। सीओ सिटी देव आनंद ने बताया कि मामले की छानबीन की जाएगी।

यह लोग हुए ठगी के शिकार

उमेश ङ्क्षसह और रविकांत निवासी शीतलपुर, जनपद हरदोई निवासी अनुपम यादव, पवन सचदेव, सुमन और हेमंत निवासी उलायतपुर, किताब ङ्क्षसह निवासी कासगंज, संजय कुमार निवासी गिरौरा, उमेश लोधी निवासी कठौली, अमित कुमार निवासी उज्जैपुर, वेदप्रकाश निवासी बदरिया।

इनके खिलाफ दर्ज एफआईआर

जुुगेंद्र यादव और उसकी पत्नी सरिता,  विनीता उर्फ मंगीता निवासी गांव मिलावली, सलीम व उसकी पत्नी नेहा उर्फ निशा निवासी जौहराबाद अलीगढ़, दिलदार खां निवासी जौहराबाद अलीगढ़।

Posted By: Sandeep Saxena

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप