अलीगढ़ जेएनएन: उत्‍तर प्रदेश के जनपद अलीगढ़ में कोरोना संक्रमित मरीजों की बढ़ती संख्या के बीच शनिवार को 41 मरीजों ने जिंदगी की जंग जीत ली। इनमें 35 मरीज लोधा के जीवन ज्योति कोरोना हॉस्पिटल से डिस्चार्ज हुए। मेडिकल कॉलेज, निजी लैब, एंटीजन किट के माध्यम से 50 मरीजों की रिपोर्ट पॉजिटिव भी आई। सक्रिय मरीजों की संख्या 403 हो गई है। स्वस्थ मरीजों की संख्या 1064 हो गई है। 27 मरीजों की मृत्यु हो गई है। अब तक 1494 लोग संक्रमित हुए।

भाई ने कराई जांच, मृतक की दे दी रिपोर्ट  
स्वास्थ्य विभाग की ओर से शुक्रवार की रात देरी से जारी किए जाने के बाद भी कोरोना संक्रमित मरीजों की सूची में बड़ी चूक कर दी। मानिक चौक के जिस हार्डवेयर व्यापारी की गुरुवार को मृत्य हो गई थी। उनके बड़े भाई की रिपोर्ट लंबित थी। कैलाश हॉस्पिटल से यह रिपोर्ट कई दिन पहले ही मिल गई। हैरत की बात ये है कि विभाग ने देर रात जो सूची जारी की, उसमें बड़े भाई की जगह मृतक का नाम ही जोड़ दिया। सीएमओ रोज ही मरीजों का आंकड़ा देरी से सार्वजनिक करने के पीछे डेटा फीङ्क्षडग में सावधानी बरतने का दावा कर रहे हैं।

बेलगाम दौड़ा संक्रमण

आंकड़ों पर नजर डालें तो पहले लॉकडाउन में मात्र एक कोरोना संक्रमित मरीज मिला। दूसरे लॉकडाउन में यह संख्या 43 हो गई। तीसरे लॉकडाउन में यह संख्या 85 तो चौथे लॉकडाउन में 174  पहुंच गई। यह आंकड़ा पार करने में करीब दो माह का समय लगा। वहीं, पहले अनलॉक (तीन जून से 30 जून) तक यह संख्या 490 हुई और फिर दूसरे अनलॉक (एक जुलाई से 31 जुलाई) में करीब 1450 हो गई। यानी, अनलॉक के दो माह में 950 से ज्यादा मरीज सामने आए। इस तरह अनलॉक में हर रोज करीब 30 मरीजों का औसत रहा, जो काफी ज्यादा है।सीएमओ ने बताया कि संक्रमण को मास्क व शारीरिक दूरी अपनाकर ही रोका जा सकता है। इसका और कोई उपाय अभी नहीं।

Posted By: Sandeep Saxena

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस