मनोज जादौन, अलीगढ़

आयकर विभाग ने 2017-18 में 266 करोड़ रुपये टैक्स वसूला है। अलीगढ़ रेंज में 66 हजार नए करदाता भी बने हैं। इनमें बड़ी संख्या ऐसे लोगों की है, जिन्होंने पहली बार रिटर्न दाखिल किया है। बढ़ोत्तरी के इस आंकड़े में हार्ड कॉपी के रूप में जमा किए गए रिटर्न शामिल नहीं हैं।

आयकर विभाग के अलीगढ़ परिक्षेत्र में अलीगढ़, एटा, कासगंज, हाथरस, फर्रुखाबाद, मैनपुरी व कन्नौज कुल सात जिले आते हैं। अफसरों ने सातों जिलों के लोगों से वर्ष 2017-18 में 266 करोड़ रुपये टैक्स वसूला है। यही नहीं, रेंज में अब 2.91 लाख लोग करदाता हो गए हैं। पिछले साल के मुकाबले इस आंकड़े में 66 हजार की बढ़ोत्तरी हुई है। वर्ष 2016-17 में यहां के अफसरों ने 90 करोड़ वसूली के सापेक्ष 202 करोड़ रुपये वसूल किए थे। इसमें इनकम डिसक्लोजर स्कीम (आइडीएस) में 45 करोड़ और अघोषित संपत्ति की घोषणा से 105 करोड़ रुपये वसूले गए थे।

मैन्युअल भी जमा हुए रिटर्न : आयकर विभाग में यूं तो अधिकांश काम ऑनलाइन है, लेकिन विशेष परिस्थिति में कोई भी मैन्युअली रिटर्न भी जमा कर सकता है। इसके लिए वार्ड के आयकर अधिकारी के नाम प्रार्थनापत्र देना पड़ता है। उनकी अनुमति से इसे जमा कर सकते हैं।

बैंकों में हो रही पोस्टिंग, बढ़ सकती है रकम : बैंकों में 31 मार्च तक आयकर चालान व कैश भुगतान किए गए। एक अप्रैल को रविवार होने के कारण बैंक इसकी पोस्टिंग करा रहा है। बताते हैं कि अलीगढ़ रेंज के एक हजार से ज्यादा लोगों का डाटा पोस्ट होना शेष है। इस लिहाज से कर वसूली की रकम 266 करोड़ के और ऊपर पहुंचने की उम्मीद है।

---

जीएसटी ने बढ़ाए करदाता!

एक साल में 66 हजार करदाताओं के बढ़ने के पीछे वस्तु एवं सेवाकर यानी जीएसटी को माना जा रहा है। दरअसल, जीएसटी लागू होने के बाद बिल से कारोबार करना मजबूरी हो गया है। बीते दो साल तक के आयकर रिटर्न दाखिल करने के आखिरी मौके ने भी दबाव बनाया और लोग बड़ी संख्या में आगे आए। इनका कहना है

कर जुटाने का लक्ष्य बहुत बड़ा था, लेकिन अफसरों ने मेहनत करके इसे हासिल कर लिया। इससे न सिर्फ आयकर बढ़ा, बल्कि बड़ी संख्या में नए आयकर दाता भी बढ़े।

- मुंशीराम, एडिश्नल कमिश्नर, आयकर

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप