मनोज जादौन, अलीगढ़ : उत्पादन की ओवर रेटिंग, गुणवत्ता की प्रामाणिकता पर शक जताते हुए कस्टम विभाग ने अलीगढ़ के 22 निर्यातकों को काली सूची में डाल दिया है। इनके प्रपत्रों में गड़बड़ी मिलने पर केंद्रीय जीएसटी के रिफंड दावों में हेराफेरी की आशंका जताते हुए ताला, हार्डवेयर, आर्टवेयर व बिजली फिटिंग उत्पादों के निर्यात व रिफंड के भुगतान पर रोक लगाई दी है। गोदाम से लेकर बंदरगाह तक माल के आवागमन की जांच शुरू कर दी है।

यह है मामला

जांच असिस्टेंट कमिश्नर (कस्टम) आगरा व क्षेत्रीय डिप्टी कमिश्नर (सीजीएसटी) पीयूष कटियार की निगरानी में चल रही है। इस कार्रवाई से ताला, हार्डवेयर, आर्टवेयर व बिजली फिटिंग उत्पादों से जुड़े कारोबारियों में खलबली है। इस कारोबार की शहर में छोटी-बड़ी करीब 500 इकाइयां हैं, जिनका 3200 करोड़ रुपये सालाना का कारोबार है। 200 निर्यातक हैं, जिनका दो हजार करोड़ रुपये विकसित देशों में सालाना निर्यात होता है। इनमें शामिल 22 निर्यातकों पर कस्टम विभाग ने पिछले महीने ही कार्रवाई की है। जांच के चलते 300 करोड़ का कारोबार प्रभावित है।  खास बात यह है कि मोदी सरकार जीएसटी को लेकर बेहद गंभीर है। इसको लेकर बारीकी से जांच चल रही है। जीएसटी को लेकर देश भर में जांच चल रही है।

देशभर में चल रही है जांच

आगरा कस्टम के असिस्टेंट कमिश्नर श्रीकांत राउत का कहना है कि रिफंड को लेकर देशभर में जांच चल रही है। सीजीएसटी रिफंड जारी करने का मैनुअल वेरिफिकेशन किया जा रहा है। इसके बाद ही रिफंड जारी होगा। इसमें अलीगढ़ व आगरा के भी निर्यातक शामिल हैं।

Posted By: Sandeep Saxena

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस