आगरा, जागरण संवाददाता। लॉकडाउन में दवा की दुकानों को लेकर एक और बदलाव किया गया है। अब मेडिकल स्टोर की तरह से थोक दवा की दुकानें भी हर रोज खोली जाएंगी। इसमें शारीरिक दूरी का ध्यान रखने के साथ ही संचालक और ग्राहकों को मुंह पर मास्क या रूमाल लगाना होगा। इसके साथ ही दवाओं की होम डिलीवरी को बढ़ावा देना होगा। जिससे कम लोग ही घर से बाहर दुकान तक आएं।

औषधि निरीक्षक जुनाब अली ने बताया कि दवा विक्रेताओं ने दवाओं की आपूर्ति और लोगों को हो रही समस्याएं रखी थीं। ऐसे में डीएम प्रभु एन सिंह के आदेश पर थोक दवा की दुकानें और मेडिकल स्टोर हर रोज खोलने की अनुमति दी गई है। मगर, शारीरिक दूरी बनाए रखनी होगी, इसका उल्लंघन करने पर कार्रवाई की जाएगी।

थोक दवा की दुकानें - सुबह 11 से शाम छह बजे तक

मेडिकल स्टोर - सुबह 10 से शाम पांच बजे तक

जोमैटो और स्विगी चुनिंदा सामान करेंगी डिलीवर

लॉकडाउन में लोगों को राहत देने के लिए जोमैटो व स्विगी को होम डिलीवरी देने के लिए छूट दी गई है। शनिवार को इन कंपनियों ने एप पर ऑर्डर लेना शुरू कर दिया। मगर, अभी लोगों के जरूरत के सामान की डिलीवरी नहीं की जा रही है।

कोरोना वायरस का संक्रमण रोकने को लगाए गए लॉकडाउन में रेस्टोंरेंट, होटल सब बंद हो गए। इससे होम डिलीवरी करने वाली जौमेटो और स्विगी की सेवाएं भी बंद हो गई थीं। लॉकडाउन में लोगों को जरूरत का सामान पहुंचाने के लिए प्रशासन ने होम डिलीवरी करने वाली कंपनियां की मदद ली। उन्हें लॉकडाउन में जरूरत का सामान पहुंचाने के लिए इजाजत दी गई है। इसके बाद लोग हर दिन जोमैटो और स्विगी का एप चेक कर रहे थे। मगर, इस पर कोई भी ऑर्डर नहीं लिया जा रहा था। शनिवार को जोमैटो और स्विगी के एप पर ऑर्डर लेना शुरू हो गए। लोगों ने एप पर आटा, दवाई और सब्जी के लिए सर्च किया, लेकिन उन्हें इसकी कोई सुविधा नहीं मिली। मगर, कुछ रेस्टोरेंट की लिस्ट जरूर उनके सामने आ गई। इन रेस्टोरेंट द्वारा ऑर्डर लिए जा रहे थे। इसके साथ मिठाई में पेठा भी डिलीवर हो रहा है। 

Posted By: Prateek Gupta

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस