आगरा, जागरण संवाददाता। बांसुरी किसने बनाई और कब से बजाई जा रही है। वाद्य यंत्र तबला किसने बनाया था? संगीत नाटक अकादमी (Music and Drama academy) को यह भी नहीं पता है। सूचना का अधिकार (RTI) में संस्कृति मंत्रालय से पूछे गए सवाल के जवाब में अकादमी ने तबले के आविष्कार के संबंध में विभिन्न राय होने का हवाला देते हुए आवेदक को अकादमी के पुस्तकालय में आकर अध्ययन करने को कहा है।

संगीत नाटक अकादमी से आरटीआइ आवेदक के पास आया जवाब। 

संस्कृति मंत्रालय में दाखिल की थी RTI

आगरा के आरटीआइ कार्यकर्ता डा. देवाशीष भट्टाचार्य ने संस्कृति मंत्रालय (Ministry of Culture) में छह सितंबर को आनलाइन आवेदन कर वाद्य यंत्रों तबला, बांसुरी व हारमोनियम के बारे में जानकारी मांगी थी। संगीत नाटक अकादमी, नई दिल्ली के उप-सचिव अंकुर आचार्य ने 20 सितंबर को इसका जवाब दिया गया है। उन्होंने आवेदक को अवगत कराया है कि अकादमी के संगीत अनुभाग का मानना है कि यह विषय गहन अध्ययन का है। आवेदक द्वारा मांगी गई सूचना के संदर्भ में अलग-अलग राय हैं। इस बारे में कुछ भी कहना बहुत मुश्किल है। संगीत अनुभाग ने यह सुझाव दिया है कि आवेदक व्यक्तिगत रूप से संगीत नाटक अकादमी के पुस्तकालय में आकर इस संबंध में अध्ययन कर सकते हैं।

आरटीआइ कार्यकर्ता डा. देवाशीष भट्टाचार्य। 

अपील में जाएंगे अब

आरटीआइ कार्यकर्ता डा. देवाशीष भट्टाचार्य ने कहा कि वह संगीत नाटक अकादमी के जवाब से संतुष्ट नहीं हैं। अकादमी उनकी आरटीआइ का जवाब नहीं देना चाहती है। इसके खिलाफ वह प्रथम अपील करेंगे। पाठ्य-पुस्तकों में गलत इतिहास पढ़ाया जा रहा है। तबला पौराणिक वाद्य यंत्र है। इसका आविष्कार अमीर खुसरो ने नहीं किया था। बांसुरी और हारमोनियम भी प्राचीन वाद्य यंत्र हैं।

आरटीआइ में पूछे थे ये सवाल

-तबले का आविष्कार कब और किसने किया?

-हारमोनियम का वाद्य यंत्र के रूप में प्रयोग कब से हो रहा है?

-बांसुरी कब से बजाई जा रही है और इसे किसने बनाया था?

-तबला पहले मिट्टी से बना या लकड़ी से? किसने इसे बनाया था? 

Edited By: Prateek Gupta