आगरा, जेएनएन। सर्दी की विदाई के दौर में एकदम से तापमान में उछाल आने के बाद शनिवार शाम अचानक मौसम ने करवट ली। देखते ही देखते काली घटाएं घिरीं अाैैैर ओलों के साथ तेज बारिश आगरा व आसपास के इलाकों में शुरू हो गई। शहर के बाहरी इलाकों में मैदानों में ओलों की चादर सी बिछ गई। आेलों का आकार भी काफी बड़ा था। ओलावृष्टि से किसानों के चेहरे पर चिंता की लकीरें उभर आई हैं।

जागरण.कॉम ने शुक्रवार को ही बारिश होने के आसार व्‍यक्‍त किए थे। स्‍थानीय स्‍तर पर दबाव लगातार बन रहा था। शनिवार को दोपहर में धूप तेज रहने के बाद शाम लगभग पांच बजे बादल घिरने लगे। शाम 6:15 बजे ओलों के साथ बारिश होने लगी। शुरुआती 10 मिनट तक बड़े आकार के ओले गिरे। जो जहां, वह वहीं थम गया। शहर में लोग जहां ओलों का आनंद ले रहे थे, वहीं ग्रामीण इलाकों में किसान परेशान। शहरी क्षेत्र के अलावा आसपास फतेहाबाद, शमसाबाद, किरावली, फतेहपुरसीकरी, खंदौली में भी बारिश व ओले गिरे हैं। वहीं फीरोजाबाद में भी मौसम बदल चुका है। बिजली चमकने के साथ बारिश हो रही है। शनिवार को आगरा में अधिकतम तापमान 26 और न्‍यूनतम 16 डिग्री सेल्सियस रहा।

आलू व सरसों को होगा नुकसान

ब्रजमंडल में इस समय खेतों में आलू और सरसों की फसल हो रही है। ओले गिरने से किसान इसलिए परेशान हैं कि सरसों की अगैती फसल में फली आ चुकी है, इसके बिखरने की आशंका है। वहीं तेज हवा और बारिश के चलते खड़ी सरसों के बिछने का डर भी है। आलू किसान अशोक शर्मा ने बताया कि आलू की अगैती फसल की ओलों से दागदार होने की आशंका है। वहीं पिछैती फसल में आलू के सड़ने का डर है।

पांच मार्च तक रहेगा ऐसा ही मौसम

मौसम विशेषज्ञों की मानें तो आगामी पांच मार्च तक मौसम ऐसा ही रहेगा। कभी बादल छाएंगे तो कभी हल्‍की-फुल्‍की बूंदाबांदी होगी। छह मार्च से मौसम साफ होने की संभावना जताई जा रही है।  

Posted By: Prateek Gupta

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस