आगरा, जागरण संवाददाता। शातिर ने कासिम से निक्की बन मोबाइल पर किशोरी से दोस्ती कर ली। उसे अपने प्यार के जाल में फंसा बहनों का भी नाम बदल उनकी मुलाकात करा दी। साजिश के तहत शादी कर उसका धर्म परिवर्तन कराने का प्रयास किया। किशोरी के स्वजन द्वारा हरीपर्वत थाने में मुकदमा दर्ज कराने पर पुलिस ने छह आरोपितों को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया। एक वर्ष से फरार चल रहे मुख्य आरोपित को पुलिस ने गिरफ्तार कर रविवार को जेल भेज दिया। उस पर पांच हजार रुपये का इनाम था।

एसपी सिटी विकास कुमार ने बताया कि आरोपित निक्की यादव उर्फ कासिम कुरैशी निवासी नसीराबाद कालोनी न्यू आगरा को जेल भेजा गया है। उसने एक वर्ष पहले हरीपर्वत क्षेत्र की रहने वाली किशोरी से नाम बदलकर दोस्ती कर ली। उससे निक्की यादव बनकर मोबाइल पर चैटिंग करता रहा। किशोरी से अपनी दो बहनों की भी मुलाकात कराई। उन्होंने अपना नाम सोनम यादव और सीमा यादव बताया।

किशोरी को 15 जून 2022 को सोनम और सीमा बहाने से अपने साथ लेकर गईं। बेटी को तलाश करते हुए स्वजन आरोपित के घर पहुंचे तो उनकी असलियत पता चली। आराेपित के स्वजन ने बताया कि उन्होंने किशोरी का धर्म परिवर्तन करा उसका नाम बदल दिया है। उसका निकाह कासिम से करा दिया है। पुलिस में शिकायत न करने पर एक सप्ताह में बेटी को वापस घर भेजने का आश्वासन दिया।

दो सप्ताह बाद भी किशोरी नहीं आई तो स्वजन ने दो जुलाई 2022 को मुकदमा दर्ज कराया। पुलिस ने अपहरण, दुष्कर्म, धोखाधड़ी और पाक्सो एक्ट के तहत मुकदमा दर्ज किया। साजिश में शामिल छह आरोपितों को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया। किशेारी को बरामद कर स्वजन के सुपुर्द कर दिया। मुख्य आरोपित कासिम उर्फ निक्की फरार चल रहा था।

एसपी सिटी ने बताया मुख्य आरोपित पर पांच हजार रुपये का इनाम था। छानबीन में पुलिस को पता चला कि आरोपित बिहार के गया जिले के फतेहपुर थाना क्षेत्र के गांव करीयादपुर में रह रहा है। पुलिस ने आरोपित को वहां से गिरफ्तार कर लिया। उसे रविवार को अदालत में पेश किया गया, जहां से उसे जेल भेज दिया गया। 

Edited By: Tanu Gupta