आगरा, जागरण संवाददाता। प्रदेश सरकार ने बजट में आगरा मेट्रो को 597 करोड़ रुपये दिए हैं। इससे प्राथमिकता वाले छह किमी लंबे कारिडोर का निर्माण तेजी से होगा। दिसंबर 2023 में इस कारिडोर में मेट्रो का संचालन शुरू होगा। इसमें तीन एलीवेटेड और तीन भूमिगत स्टेशन शामिल हैं। वहीं पीएसी ग्राउंड में मेट्रो का पहला डिपो निर्माणाधीन है।

प्रदेश सरकार ने वित्तीय वर्ष 2021-22 में 478 करोड़ रुपये मिले थे। इससे फतेहाबाद रोड पर तीन स्टेशनों का निर्माण चल रहा है जबकि इस वित्तीय बजट में 597 करोड़ रुपये मिले हैं। उप्र मेट्रो रेल कारपोरेशन (यूपीएमआरसी) के प्रबंध निदेशक कुमार केशव ने बताया कि बजट मिलने से मेट्रो का कार्य और भी तेजी से हो सकेगा।

जमीन की बाधा दूर

डीएम प्रभु एन सिंह ने बताया कि भूमिगत स्टेशनों के लिए जमीन की बाधा दूर हो गई है। यूपीएमआरसी की टीम ने जमीनों के अधिग्रहण का जो भी प्रस्ताव दिया था। उसे पूरा कर लिया गया है।

इन स्टेशनों का चल रहा निर्माण

एलीवेटेड स्टेशन : ताज पूर्वी गेट, बसई और फतेहाबाद रोड - भूमिगत स्टेशन : ताजमहल, आगरा किला और जामा मस्जिद

आगरा मेट्रो प्रोजेक्ट एक नजर में - 8369 करोड़ रुपये मेट्रो प्रोजेक्ट की लागत है - 30 किमी लंबा मेट्रो ट्रैक होगा - 27 मेट्रो स्टेशन होंगे - 20 एलीवेटेड स्टेशन होंगे - सात भूमिगत स्टेशन होंगे - 14 किमी लंबा सिकंदरा तिराहा से ताज पूर्वी गेट तक पहला कारिडोर - 16 किमी लंबा आगरा कैंट रेलवे स्टेशन से कालिंदी विहार तक दूसरा कारिडोर होगा - छह किमी लंबा प्राथमिकता वाला कारिडोर होगा - 272 करोड़ रुपये से ताज पूर्वी गेट, बसई और फतेहाबाद रोड स्टेशन बन रहे हैं - 112 करोड़ रुपये से पीएसी ग्राउंड में मेट्रो का डिपो बनेगा - 1820 करोड़ रुपये से सात भूमिगत मेट्रो स्टेशन बनेंगे। 

ये भी पढ़ें...

Raid In Agra: आगरा में पान मसाला कारोबारियों पर 26 घंटे चली कार्रवाई, 72 लाख सरेंडर

Edited By: Abhishek Saxena