आगरा, जागरण संवाददाता। देसी- विदेशी सैलानियों की संख्या में आई गिरावट और घटते रात्रि प्रवास से जूझते पर्यटन उद्योग को अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप का ताज दौरा उम्मीदें बंधा गया है। दुनिया भर में इससे भारत और आगरा के सुरक्षित होने का संदेश गया है। वहीं, अमेरिकी राष्ट्रपति भी यह कह गए कि हमारे आने के बाद ताजमहल देखने अधिक संख्या में पर्यटक आएंगे। वैसे भी ताजमहल देखने आने वालों में अमेरिकी पर्यटक ही अधिक होते हैं।

पर्यटन उद्योग के लिए वर्ष 2019 भुलाने वाला रहा है। वर्ष 2018 की अपेक्षा 2019 में 59182 विदेशी और 1032609 भारतीय पर्यटक कम आए। इसकी वजह यूरोपियन मंदी, कश्मीर से अनुच्छेद 370 को हटाना, नागरिकता संशोधन कानून को लागू करने के विरोध में प्रदर्शन, महिलाओं के प्रति बढ़ते अपराध, देशके आधा दर्जन राज्यों में बाढ़ आने को माना गया। महिलाओं के प्रति बढ़ते अपराध के चलते मार्च, 2019 में अमेरिका और नवंबर, 2019 में ग्रेट ब्रिटेन द्वारा एडवाइजरी भी जारी की गईं। 2020 के शुरुआत में फरवरी में ही अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप की विजिट से पर्यटन उद्यमियों को नई उम्मीदें बंध गई हैं। उन्हें उम्मीद है कि जिस तरह पूर्व में राष्ट्राध्यक्षों की विजिट के बाद ताज देखने आने वाले उस देश के पर्यटकों की संख्या में उछाल आता रहा है, वैसा ही इस बार भी होगा। 2016 में ब्रिटेन के प्रिंस फिलिप और प्रिंसेज कैट मिडिलटन के ताज देखने आने के बाद ब्रिटेन से आने वाले पर्यटकों की संख्या में वृद्धि हुई थी। ताज देखने आने वाले अमेरिकन पर्यटकों की संख्या बढ़ेगी। जिससे यहां संकट से जूझते पर्यटन उद्योग को राहत मिलेगी।

ट्रंप का ताज मुकाम, देगा पर्यटन इंड्रस्टी को ऊंची उड़ान

अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप को ताज दीदार से ताजनगरी के पर्यटन और शू इंडस्ट्री में तेजी आने की उम्मीद है। इस दौरे से विश्व में ताजनगरी की जो छवि गई है, उसे पर्यटन व्यवसायी सुखद मान रहे हैं। उनका कहना है कि आने वाले दिनों में इसका लाभ मिलेगा।

राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप पत्नी मेनालिया के साथ करीब एक घंटा ताजमहल में रहे। पूरी दुनिया ने उनके ताज का दीदार करते देखा। इसके साथ आगरा की नई तस्वीर पूरी दुनिया के सामने गई है। ट्रंप के स्वागत की तैयारियों ने विदेशी पर्यटकों में एक संदेश जाएगा। इसका लाभ पर्यटन व्यवसाय को मिलेगा। अमेरिका से होने वाले जूता कारोबार को भी लाभ मिलेगा।

पिछले कुछ वर्षों में पर्यटकों की स्थिति

वर्ष 2019 में स्थिति

चीन, 56341

अमेरिका, 51582

ग्रेट ब्रिटेन, 38793

फ्रांस, 29270

आस्ट्रेलिया, 22842

वर्ष 2018 में स्थिति

अमेरिका, 54342

ग्रेट ब्रिटेन, 46412

चीन, 42558

फ्रांस, 36497

स्पेन, 27592

वर्ष 2017 में स्थिति

अमेरिका, 56528

गे्रट ब्रिटेन, 50809

चीन, 35644

फ्रांस, 35125

श्रीलंका, 28042

वर्ष 2016 में स्थिति

अमेरिका, 56829

गे्रट ब्रिटेन, 47744

चीन, 44995

फ्रांस, 35608

श्रीलंका, 30193

वर्ष 2015 में स्थिति

अमेरिका, 41805

ग्रेट ब्रिटेन, 34625

फ्रांस, 29662

चीन, 25339

जापान, 16120

(नोट: यह आंकड़े एलआइयू द्वारा होटलों में रात्रि प्रवास करने वाले पर्यटकों की रिपोर्ट पर आधारित है।)

क्‍या कहते हैं पर्यटन उद्यमी

अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप की यात्रा के दिन पर्यटकों को असुविधा जरूर हुई, लेकिन उसके बाद विदेशी पर्यटकों की संख्या बढ़ेगी। भारत और आगरा के पर्यटकों के लिए सुरक्षित होने का संदेश दुनिया भर में जाएगा।

- राजीव सक्सेना, उपाध्यक्ष टूरिज्म गिल्ड ऑफ आगरा

राष्ट्राध्यक्षों के दौरे के बाद उस देश से आने वाले पर्यटकों की संख्या बढ़ती रही है। वर्ष 2016 में प्रिंस विलियम और कैट मिडिलटन के दौरे के बाद ब्रिटिश बढ़े थे। अमेरिकी भी उसी तरह बढ़ेंगे।

-शमसुद्दीन, अध्यक्ष एप्रूव्ड टूरिस्ट गाइड एसोसिएशन

राष्ट्रपति ट्रंप की जिस तरह से मेजबानी की गई है, उससे आगरा की एक नई पहचान बनी है। इससे यहां आने वाले विदेशी पर्यटकों का विश्वास बढ़ेगा।

- संदीप अरोड़ा, अध्यक्ष आगरा टूरिज्म डवलपमेंट फाउंडेशन

अमेरिका उपभोक्ता वस्तुओं का सबसे बड़ा बाजार है। विश्व की 24 फीसद खपत अमेरिका में है। ट्रंप के दौरे से भारत-अमेरिका जितने नजदीक आएंगे, संभावनाएं उतनी बढ़ेंगी।

- पूरन डावर, अध्यक्ष, एफमेक

 

Posted By: Tanu Gupta

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस