आगरा, जागरण संवाददाता। ये पहली बार नहीं है कि गोवा- आगरा के बीच साप्ताहिक फ्लाइट शुरू होने से आगरा किसी पर्यटन स्थल से पहली बार जुड़ा है। इससे पहले भी कई कवायद हो चुके हैं। मगर, ये नियमित नहीं रहीं। दिल्ली-आगरा-खजुराहो, वाराणसी, मुंबई के लिए भी पूर्व में फ्लाइटें संचालित हो चुकी हैं लेकिन ये कुछ महीनों बाद ही बंद हो गईं। लाकडाउन के बाद अनलाक प्रक्रिया में आगरा-जयपुर के बीच शुरू की गई फ्लाइट भी दिसंबर से बंद चल रही है। इसी का नतीजा है कि पर्यटकों का नयमित फ्लाइटों की सुविधा नहीं मिल पा रही। इसका खामियाजा पर्यटन जगत को उठाना पड़ रहा है।

बीते 23 जनवरी से एयर इंडिया ने गोवा-आगरा-दिल्ली के बीच अपनी हवाई सेवा शुरू की है। इस फ्लाइट शुरू होने से पर्यटन जगत में रौनक बढ़ेगी। ताजनगरी में अब ऐसे पर्यटकों का ग्राफ बढ़ेगा जो गोवा-आगरा के बीच सीधी हवाई सेवा न होने की वजह से किसी दूसरे पर्यटन स्थल की ओर बढ़ जाते थे। अब पर्यटक दो घंटे में गोवा से आगरा आ सकेंगे। अब पर्यटक सवा दो घंटे में गोवा से आगरा आ सकेंगे। मगर, पर्यटन संस्थाओं का कहना है कि फ्लाइट शुरू करना कठिन नहीं है, इनका लगातार संचालन करना चुनौती है। यदि फ्लाइटें नियमित रहेंगी तो यहां के पर्यटन जगत को लाभ होगा। कुछ दिन फ्लाइटों का संचालन कर, बाद में बंद कर देने से कोई लाभ नहीं होगा। उम्मीद की जा रही है कि 28 मार्च से शुरू होने वाली बेंगलुरु, भोपाल, लखनऊ और अहमदाबाद की फ्लाइटें भी पर्यटन प्रोत्साहन में कारगर साबित होंगी। लाकडाउन के बाद पर्यटन क्षेत्र अब तक मंदी से नहीं उबर पाया है। बीते सितंबर में ताजमहल, आगरा किला सहित अन्य स्मारक भले ही खुल गए हों लेकिन पर्यटकों की संख्या उतनी नहीं है, जितनी पर्यटन सीजन में होती है। ऐसे में शहर के तमाम बजट क्लास होटल, एंपोरियम, रेस्टोरेंट अभी भी बंद हैं। हवाई सेवाएं शुरू होने से उन्हें उम्मीद है कि रात्रि में ठहरने वाले पर्यटकों का ग्राफ बढ़ेगा। 

Indian T20 League

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप

kumbh-mela-2021