आगरा, जागरण संवाददाता। शुक्रवार को एक बार फिर नगर निगम में बवाल होने से बच गया। निगम कर्मचारी महासंघ के मंडलाध्यक्ष विनोद इलाहाबादी को जान से मारने की धमकी दी गई है। इससे नाराज कर्मचारियों ने नारेबाजी की और डेढ़ घंटे तक कामकाज ठप रखा। अफसरों के समझाने पर कर्मचारी काम पर लौटे।

नगर निगम की हड़ताल गुरुवार रात खत्म हो गई थी। शुक्रवार सुबह दस बजे कामकाज शुरू हुआ। कर्मशाला से सभी वाहन निकले और शहर भर में सफाई हुई। इसी बीच राधा विहार, सिकंदरा निवासी विनोद इलाहाबादी के आवास पर कुछ लोग पहुंचे। पत्‍‌नी ने दरवाजा खोला, तब विनोद घर पर नहीं थे। विनोद ने बताया कि बजरंग दल के लोगों ने पत्‍‌नी को हड़काया। कहा तेरे पति को जान से मार देंगे। इससे पत्‍‌नी डर गई। पत्‍‌नी ने फोन कर विनोद को इसकी जानकारी दी। जैसे ही इसकी जानकारी निगम के कर्मचारियों को हुई उनमें आक्रोश फैल गया। कर्मचारियों ने सभी कार्यालयों को बंद करा दिया और धरने पर बैठ गए। दोषियों के खिलाफ कार्रवाई की मांग शुरू कर दी। दोपहर 12.30 से दो बजे तक काम ठप रखा। निगम अफसरों के समझाने पर वे काम पर लौटे। विनोद ने हरीपर्वत में तहरीर दी है। स्वच्छता सर्वेक्षण को लग सकता है झटका

नगर निगम में लगातार हो रहे विवाद का असर स्वच्छता सर्वेक्षण-2019 पर पड़ सकता है। हड़ताल के चलते आए दिन सफाई व्यवस्था ठप हो जाती है। हड़ताल खत्म होने के बाद शहर में ठीक तरीके से सफाई नहीं हो पाती है। जबकि किसी भी दिन टीम सर्वे के लिए आ सकती है। सर्वे में गंदगी मिलने का असर स्टार रेटिंग पर भी पड़ेगा।

Posted By: Jagran