आगरा, जागरण संवाददाता। राजस्थान के गैंग ने शहर में डेरा जमा लिया है। शहर में पिछले दिनों कमला नगर और लोहामंडी में व्यापारियों से टप्पेबाजी कर शातिरों ने रकम और सोने के गहने पार कर लिए थे। सीसीटीवी फुटेज से मिले शातिरों के फोटो इंटरनेट मीडिया पर वायरल हो रहे हैं। उधर, पुलिस को भी शातिरों का सुराग मिला है। इसके बाद पुलिस टीमें राजस्थान के लिए रवाना हो गई हैं।

बल्केश्वर में सीताराम कालोनी निवासी सुनील अग्रवाल के साथ पांच नवंबर काे कमला नगर में घटना हुई थी। पुलिसकर्मी बनकर शातिरों ने चेकिंग के बहाने उन्हें रोका था। सोने का कड़ा, चार अंगूठी और जंजीर पुड़िया में रखवा दी थीं। पुड़िया सुनील अग्रवाल के स्कूटर की डिग्गी में रख दी थी। सुनील ने पुड़िया खोली थी उसमें पत्थर निकले थे।

सोमवार को लोहामंडी-सेंट जोंस मार्ग पर नमकीन व्यापारी आयुष अग्रवाल के साथ घटना हुई थी। उनकी कार के पास शातिरों ने नोट गिरा दिए थे। उनसे कहा था कि आपके नोट गिर गए हैं। आयुष नोट उठाने लगे। इसी दौरान गाड़ी में रखा पैकेट एक किशोर लेकर भाग गया था। पैकेट में 3.30 लाख रुपये रखे थे। आयुष ने अपने प्रयास से शातिरों के सीसीटीवी फुटेज जुटाए थे। तीन युवक और एक किशोर सीसीटीवी में कैद हुए थे। पीड़ित ने मुकदमा लिखाया। अपने स्तर से भी शातिरों की तलाश शुरू कर दी। इंटरनेट मीडिया पर फोटो वायरल किए। इन फोटो में दिख रहा एक आरोपित कमला नगर वाली घटना भी शामिल था। पीड़ित ने उसकी फोटो पहचान ली है। पुलिस यह मान रही है कि दोनों घटनाएं एक ही गैंग ने की थी। लोहामंडी में वारदात से पहले बदमाश काफी देर तक सड़क पर ही घूमते रहे थे। छानबीन के बाद थाना पुलिस ने सर्विलांस टीम की मदद ली। पुलिस को गैंग के बारे में कुछ सुराग मिले हैं। इसके बाद टीम राजस्थान के लिए रवान की गई है।

Edited By: Prateek Gupta