आगरा, जागरण संवाददाता। कोरोना वायरस के संक्रमण के नए वैरिएंट ओमिक्रोन ने ताजनगरी के पर्यटन उद्योग को जोर का झटका दिया है। दिसंबर में जहां औसतन 20 हजार पर्यटक प्रतिदिन ताजमहल देखने आने लगे थे, अब उनकी संख्या घटकर औसतन 10 हजार रह गई है। पर्यटन कारोबारी इसकी वजह, कोरोना वायरस के बढ़ते संक्रमण के चलते विभिन्न राज्यों द्वारा लगाई गई पाबंदियों और दिल्ली में लागू वीकेंड कर्फ्यू को मान रहे हैं।

आगरा का पर्यटन कारोबार देश में कोरोना वायरस के संक्रमण के दस्तक देने के बाद मार्च, 2020 से प्रभावित चल रहा है। इंटरनेशनल फ्लाइट को 31 जनवरी तक स्थगित किए जाने के चलते यहां विदेशी पर्यटक नहीं आ पा रहे हैं। दिसंबर में ताजमहल भारतीय पर्यटकों से गुलजार नजर आ रहा था और प्रतिदिन औसतन 20 हजार पर्यटक आ रहे थे। जनवरी के पहले दिन कोरोना काल में रिकार्ड 37834 टिकटें बुक कराकर पर्यटकों ने ताजमहल देखा था। दो जनवरी को भी 32 हजार से अधिक पर्यटकों ने ताजमहल देखा। इसके बाद कोरोना वायरस का संक्रमण बढ़ने और मौसम खराब होने से ताजमहल पर पर्यटकों की संख्या में गिरावट आना शुरू हुई। शनिवार को केवल 10076 पर्यटक ताजमहल देखने पहुंचे, जिनमें 157 विदेशी शामिल थे। वीकेंड में यह संख्या काफी कम है। ताजमहल देखने आने वाले पर्यटकों की संख्या में गिरावट से पर्यटन कारोबारी चिंतित हो उठे हैं।

ताजमहल पर पर्यटकों की स्थिति

एक जनवरी, 37834

दो जनवरी, 32496

तीन जनवरी, 16426

चार जनवरी, 11850

पांच जनवरी, 11056

छह जनवरी, 9848

सात जनवरी, शुक्रवार की साप्ताहिक बंदी

आठ जनवरी, 10076

नाै जनवरी, 11238

Edited By: Prateek Gupta