आगरा, जागरण संवाददाता। एसटीएफ टीम को बड़ी सफलता हाथ लगी है। सदर क्षेत्र में नकली नोट बनाकर बाजार में खपाने वाले गैंग का पर्दाफाश टीम ने किया है।

शुक्रवार को एसटीएफ ने बड़ी कार्रवाई करते हुए नकली नोट बनाने वाले गैंग के सरगना समेत पांच लोगों को गिरफ्तार किया है। गैंग के सदस्‍य लैपटॉप और कलर प्रिंटर की मदद से ₹ 100 के पुराने नकली नोट बनाते थे। एसटीएफ ने गैंग से ₹ 35,000 नकली नोट बरामद किये हैं।

गिरफ्तार सरगना का नाम ओमकार झा निवासी राजपुर चुंगी सदर है। अन्य आरोपितों के नाम अवधेश सविता निवासी शमसाबाद, शिवम तोमर निवासी कहरई ताजगंज, सुनील सिसौदिया निवासी धिमिश्री शमसाबाद और लाखन निवासी मियांपुर फतेहाबाद है। एसटीएफ ने सभी को शहीद नगर फेज दो से गिरफ्तार किया।

गैंग ₹ 100 के नोटो की असली गड्डी की सीरीज को लैपटॉप में फोटो शॉप में जाकर स्कैन कर लेता था। इसके बाद ₹ 10 के स्टाम्प पेपर पर नकली नोटों को छापता था। इस पर सिल्वर तार की लाइन चिपका करके उसे डीसी मशीन में फिनिशिंग देकर असली जैसा बना देता था। इसके बाद अपने एजेंट्स के माध्यम से बाजार में खपा देता था।

₹ 5000 में देते थे ₹ 10,000 के नकली नोट

गैंग के लोग अपने लोगों को ₹ 5000 में ₹ 10,000 के नकली नोट देते थे। पुराने नोट होने के चलते लोग ज़्यादा इसकी जांच नही करते थे। इसलिए आसानी से बाजार में चल जाते थे।

डेढ़ साल से नकली नोट खपा रहा था गैंग

नकली नोट चलाने वालों ने बताया कि वह डेढ़ साल से ये काम कर रहे हैं। अब तक लाखों रुपये खपा चुके हैं। 

Posted By: Tanu Gupta

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस