अम्बुज उपाध्याय, आगरा: पंचायत चुनाव के रण में महिला प्रत्याशी की संख्या पुरुषों से भले ही कम हैं, लेकिन ये आंकड़ा कुल प्रत्याशियों में 40 फीसद से अधिक हैं। ग्राम प्रधान, ग्राम पंचायत सदस्य से लेकर क्षेत्र पंचायत और जिला पंचायत सदस्य तक सभी पदों के लिए महिलाओं ने जमकर दावेदारी की है। महिला प्रत्याशियों ने घूंघट में वोट मांगे तो मतदान के लिए हर बूथ पर पुरुषों से अधिक महिलाएं कतार में दिखाई दीं। इसमें अधिकतर घूंघट की ओट से ही वोट की चोट करने पहुंचीं थीं।

जिला पंचायत सदस्य के लिए दर्जनों दिग्गज अपना भाग्य नहीं आजमा सके हैं। अध्यक्ष सीट महिला आरक्षित होने के कारण, परिवार की महिला के सहारे ये दूरी तय करने की तैयारी है। वहीं आरक्षण आवंटन में प्रधानी, क्षेत्र पंचायत सदस्य के भी पद महिलाओं के लिए आरक्षित हुए तो उन सीट पर नजरें जमाए बैठे दिग्गजों ने परिवार की महिला को आगे कर दिया था। इसमें से अधिकतर को तो राजनीति का प्रारंभिक ज्ञान भी नहीं है, लेकिन वे मैदान में है। परिवार के पुरुषों ने ही सभी औपचारिकता पूरी की थीं, महिला प्रत्याशी घूंघट की ओट में साथ रहीं। अगर चुनिदा जगह वोट मांगने भी गई तब भी घूंघट रहा। मतदान केंद्रों पर दर्जनों महिला अभिकर्ता भी घूंघट में थीं, तो मतदाता महिलाएं भी घूंघट में ही पहुंच रही थीं। अभिकर्ता भी महिलाओं तक घूंघट की आड़ में ही बात पहुंचा रही थीं।

-----

ये है आंकड़ा

जिला पंचायत सदस्य के कुल पद, 51

कुल प्रत्याशी मैदान में 587

कुल पुरुष प्रत्याशी, 332

कुल महिला प्रत्याशी, 255

----

जिले में प्रधान के कुल पद 690

निर्विरोध चुने गए प्रधान, दो

कुल प्रधान पद पर चुनाव, 688

कुल प्रत्याशी मैदान में, 4431

कुल पुरुष प्रत्याशी, 2597

कुल महिला प्रत्याशी,1834

----

कुल क्षेत्र पंचायत सदस्य पद, 1257

निर्विरोध चुने गए, 83

कुल पदों के लिए चुनाव, 1174

प्रत्याशी मैदान में, 4811

पुरुष प्रत्याशी, 2937

महिला प्रत्याशी, 1874

Edited By: Jagran