आगरा, जागरण संवाददाता। कोरोना काल में स्मारक बंद होने से आर्थिक तंगी से जूझ रहे ताजनगरी के पर्यटन जगत के हित में समाजवादी पार्टी ने आवाज उठाई है। महानगर अध्यक्ष चौधरी वाजिद निसार का कहना है कि जब भाजपा की गुजरात सरकार अपने पर्यटन जगत को राहत दे सकती है तो यूपी में क्यों नहीं? उन्होंने इस संबंध में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को पत्र भी लिखा है।

महानगर अध्यक्ष का कहना है कि भाजपा की गुजरात सरकार ने कोरोना काल में ठप हो चले पर्यटन उद्योग को राज्य सरकार की ओर से राहत प्रदान की है। सरकार द्वारा होटल, रेस्टोरेंट, रिसार्ट, वाटर पार्क को एक साल के लिए प्रापर्टी टैक्स में छटू प्रदान की है। साथ ही बिजली बिल के फिक्स चार्ज में भी छूट देने का भी निर्णय रूपाणी सरकार ने लिया है। मगर, भाजपा की यूपी सरकार ने इस दिशा में कोई कदम नहीं उठाया है। यह भाजपा सरकार की दोहरी नीति को उजागर करता है। उन्होंने कहा कि पर्यटन के मानचित्र पर अहम स्थान रखने वाले आगरा के पर्यटन जगत राहत देने के लिए उत्तर प्रदेश की योगी सरकर ने कुछ नही किया है। आगरा सहित पूरे प्रदेश का पर्यटन उद्योग वेंटिलेटर पर है।उन्होंने मांग की है कि पर्यटक उद्योग से जुड़े व्यवसायियों को कोरोना के संकट काल में मदद व अधिक से अधिक छूट दी जाए। प्रसिद्ध ताजमहल, लाल किला, फतेहपुर सीकरी, एत्माद्दौला, आदि मुख्य पर्यटक स्थल उत्तर प्रदेश के आगरा में स्थित हैं। समाजवादी पार्टी महानगर आगरा द्वारा पहले भी पर्यटक व्यवसाय से जुड़े लोगों के लिए सहायता मांगी थी लेकिन भाजपा सरकार ने कोई ध्यान नहीं दिया। कोरोना काल में स्मारकों के बंद होने के साथ ही पर्यटन व हैंडीक्राफ्ट्स कारोबार ठप हो गए है। 

Edited By: Tanu Gupta