आगरा, जागरण संवाददाता। विजय दशमी के अवसर पर हिंदूवादी संगठनों में सुबह से ही उत्साह का माहौल दिखा। आरएसएस ने राजनगर से पथसंचलन की शुरुआत की, जिसमें स्वयंसेवक पूर्ण गणवेश में थे। कतारबद्ध स्वयंसेवकों के हाथों में दंड, शक्ति और अनुशासन का प्रतिबिंब दिखाई दे रही थी। वहीं दोपहर में बजरंग दल, राष्ट्रीय बजरंग दल द्वारा शस्त्रपूजन किया जाएगा।

कोरोना संक्रमण के कारण आरएसएस की शाखाएं प्रभावित हुई थीं, तो गत वर्ष पथसंचलन भी नहीं निकला था। शुक्रवार को राजनगर से शुरू होकर पथसंचलन शाहगंज, रूई की मंडी, भोगीपुरा, साकेत कालोनी होता हुआ वापस लौटा। इस अवसर पर संघ के क्षेत्रसेवा प्रमुख गंगाराम का बौद्धिक हुआ। आरएसएस के विभाग कार्यावाह पंकज खंडेलवाल ने बताया कि संघ के प्रमुख उत्सवों से एक विजय दशमी है। विभिन्न कार्यक्रम सुबह से ही शुरू हो गए हैं। शाम को सेवला क्षेत्र में बाल स्वयंसेवकों का पूर्ण गणवेश में कार्यक्रम होगा। वे योगासन करेंगे तो शारीरिक शक्ति का प्रदर्शन भी किया जाएगा। विजय दशमी उत्सव संघ की सभी शाखाओं में मनाया जा रहा है। शस्त्र पूजन के साथ ही बौद्धिक होगा। हर शाखा में बौद्धिक के वक्ता पहले ही निर्धारित किए जा चुके हैं। वहीं विहिप के प्रांत उपाध्यक्ष सुनील पाराशर ने बताया कि बजरंग दल द्वारा सिकंदरा स्थित महाकालेश्वर मंदि पर दोपहर 12 बजे शस्त्र पूजन कार्यक्रम होगा। विजय दशमी पर असत्य पर सत्य की जीत का उत्सव मनाने के लिए सभी राष्ट्रवादी लोग आतुर रहते हैं। इस दिन सभी कार्यकर्ता एक बुराई छोड़ने का संकल्प लेंगे। राष्ट्रीय बजरंग दल के क्षेत्रीय महामंत्री अज्जू चौहान ने बताया कि रकाबगंज थाने के निकट दोपहर 11 बजे सांई बाबा मंदिर पर शस्त्र पूजन कार्यक्रम किया जाएगा।

Edited By: Prateek Gupta