आगरा, जागरण संवाददाता। डाक्टर दंपती के घर डकैती डालने वाले कारपेंटर मुर्शरफ सर्विलांस का भी जानकार था। जेल में रहने के दौरान अन्य अपराधियों से उसे पता चला गया था कि वारदात के बाद पुलिस सबके मोबाइल की लोकशन निकालेगी। पुलिस की सर्विलांस टीम के रडार पर आने से बचने के लिए शातिर ने दाे महीने पहले से ही मोबाइल का प्रयोग बंद कर दिया था। वह भाइयों के मोबाइल से ही अपने परिचितों से बातचीत करता था। वहीं, डकैती कांड में वांछित आमिर और रेहान की तलाश में पुलिस ने गुरुवार को भी कई जगहों पर दबिश दी।

जगदीशपुरा की आवास विकास कालोनी के सेक्टर दो में डाक्टर जसवंत राय के घर में 18 सितंबर को डकैती पड़ी थी। मंगलवार को वारदात का पर्दाफाश करते हुए पुलिस ने सरगना मुर्शरफ समेत पांच आरोपितों को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया। वह डाक्टर के यहां कारपेंटर का काम कर रहा था। जेल भेजे गए मुर्शरफ ने पूछताछ में पुलिस को कई जानकारी दीं। उसने बताया कि वर्ष 2017 में विभव नगर में हुई लूट के मामले में तारीख पर नहीं जाने पर उसके गैर जमानती वारंट जारी हो गए थे। करीब तीन महीने पहले पुलिस ने उसे गिरफ्तार करके जेल भेजा था।

वह 15 दिन जेल में रहने के बाद जमानत पर बाहर आया था। मुर्शरफ ने बताया कि उसे पता था कि पुलिस किसी भी वारदात के बाद सर्विलांस की मदद से बदमाशों तक पहुंचती है। जिसके चलते उसने दो महीने पहले से मोबाइल का प्रयोग बंद कर दिया था। दोस्तों से बातचीत के लिए वह भाइयों के मोबाइल का प्रयोग करता था। जिससे कि पुलिस उस तक न पहुंच सके। सीओ लोहामंडी सौरभ सिंह ने बताया डकैती में वांछित आमिर और रेहान की गिरफ्तारी को टीमें दबिश दे रही हैं।

Edited By: Prateek Gupta