आगरा, जागरण संवाददाता। कोरोना संक्रमण के कारण लोगों की आर्थिक स्थिति खराब है। बावजूद इसके कान्वेंट और पब्लिक स्कूलों की मनमानी रुकने का नाम नहीं ले रही। इसको लेकर आक्रोशित अभिभावकों ने प्रोग्रेसिव आगरा पेरेट्स एसोसिएशन (पापा) संस्था के नेतृत्व में बाग मुजफ्फर खां स्थित सेंट जार्जेस स्कूल पर प्रदर्शन किया। इसके बाद वह पैदल मार्च करते हुए सेंट जोंस चौराहा पहुंचे और एमजी रोड थोड़ी देर के लिए जाम कर दिया।

पापा जिला संयोजक अमर सिंह का कहना था कि हम प्रदर्शन नहीं करना चाहते, लेकिन तमाम शिकायतों के बाद भी सुनवाई न होने पर उन्हें स्कूलों के गेट पर प्रदर्शन करना पड़ रहा है। अब अभिभावकों का उत्पीड़न बर्दाश्त नहीं होगा।

यह है आरोप और मांग

अभिभावकों का आरोप था कि स्कूल आनलाइन शिक्षा वाले ग्रुप से विद्यार्थियों को निकाल रहे हैं, उन्हें दोबारा ग्रुप में जोड़ा जाए। आनलाइन शिक्षण छह की जगह तीन घंटे का हो। आनलाइन क्लास में यूनिफार्म पहनकर बैठने का आदेश निरस्त हो। शासनादेश के अनुसार क्रीड़ा, विज्ञान प्रयोगशाला, लाइब्रेरी, कंप्यूटर, वार्षिक कार्यक्रम आदि शुल्क हटाकर फीस का सर्कुलर जारी किया जाएगा। फीस किश्तों में लेने का प्रावधान हो। सिलेबस बदलकर अभिभावकों पर आर्थिक बोझ न डालें। भौतिक परीक्षा शुल्क न लिया जाए, यदि लिया है, तो वापसी हो।

पुलिस के साथ हुई बैठक

टीम पापा के साथ अभिभावक पहले सेंट जार्जेज स्कूल पहुंचें और फिर सेंट जोंस चौराहा पहुंचकर जाम लगा दिया। सूचना पाकर पुलिस भी मौके पर पहुंच गई। अभिभावकों की मांग के बाद इंस्पेक्टर थाना हरीपर्वत अरविद सिंह सेंट जार्जेज प्रिसिपल जीएस जर्माया और पापा संस्था राष्ट्रीय संयोजक दीपक सरीन के साथ बैठक की। दीपक सरीन ने बताया कि इसके बाद स्कूल ने आनलाइन शिक्षा वाले ग्रुप से हटाए बच्चों को दोबारा जोड़ने की कार्रवाई शुरू की और यूनिफार्म पहनकर आनलाइन क्लास की बाध्यता खत्म कर दी। इस दौरान राखी सिंह, मोनिका यादव, रुचि कोहली, अभय यादव, कृष्णा, गौरव, साधना सिंह, पूजा, अतुल शिवहरे, अवध सिंह पवार, कपिल उप्पल, गौरव राजावत, सौरभ राजपूत, गर्जन सिंह, वेदांत राय, सतीश आदि मौजूद रहे।

Edited By: Jagran