आगरा, जेएनएन। पूर्व में रवि की लाली फैलने के साथ ही रविवार को गलियां देशभक्ति के नारों से गूंज उठीं। सड़कों पर हाथ में तिरंगा लिए प्रभार फेरी निकाली गई। सुबह आठ बजे स्कूली बच्चे प्रभातफेरियां निकाली। जिला मुख्यालय पर जिलाधिकारी और परेड मैदान में मंत्री और राज्यमंत्री ने परेड की सलामी ली। आगरा परेड मैदान में राज्यमंत्री चौधरी उदयभान सिंह और जिलाधिकारी पीएन सिंह ने परेड की सलामी ली।

साढ़े आठ बजे सभी सरकारी, गैर सरकारी कार्यालया और संस्थाओं में ध्वजारोहण के बाद राष्ट्रगान का सामूहिक गायन किया गया। फीरोजाबाद में गणतंत्र दिवस के मौके पर पुलिस लाइन मैदान में सुबह 8.30 बजे पुलिस की परेड अविस्मरणीय ्ररही। प्रदेश सरकार के राज्यमंत्री डॉ. जीएस धर्मेश ने परेड की सलामी ली। परेड में आखिरी बार पुलिसकर्मियों ने कर्मी थ्री नॉट थ्री राइफल लेकर परेड की। पहली बार महिला पीआरवी भी परेड में शामिल हुईं। एएसपी डॉ. ईराज राजा ने परेड की अगुवाई की।

मथुरा में श्रीकृष्ण जन्मस्थान के कारण सुरक्षा के पुख्ता बंदोबस्त किए गए। सीमाओं के अलावा आंतरिक इलाकों में भी चेङ्क्षकग कराई जा रही है। धार्मिक स्थलों के आसपास भी कड़ी निगरानी कराई जा रही है। सुबह प्रभात फेरी निकाली गई। पुलिस परेड मैदान में दुग्ध विकास एवं पशुपालन मंत्री लक्ष्मीनारायण चौधरी ने परेड की सलामी ली।

मैनपुरी में पुलिस लाइन का परेड मैदान सतरंगी छटा से सराबोर रहा। सूबे के आबकारी मंत्री रामनरेश अग्निहोत्री ने सुबह 9:30 बजे परेड का मान-प्रणाम ग्रहण किया। जिलेभर में प्रभात फेरियों की धूम रही। शहर में 61 स्थानों पर भारत माता का पूजन किया गया।

एटा में कलक्ट्रेट पर सुबह 7.30 बजे ध्वजारोहण जिलाधिकारी सुखलाल भारती ने किया। 8.30 बजे सभी राजकीय भवनों पर तिरंगा फहराया गया। इसी दरम्यान शहीद पार्क से स्कूली बच्चों की प्रभात फेरी निकाली गई। 10 बजे सभी शिक्षण संस्थाओं में ध्वजारोहण का कार्यक्रम किया गया। कासगंज में जिलाधिकारी सीपी सिंह ने ध्वजारोहण किया। जिले भर में देश भक्ति के तराने गूंजे। शहर से लेकर कस्बों तक बाजारों में भी तिरंगा छाया रहा। 

दी गई 3 नॉट 3 को अंतिम विदाई

आगरा, फीरोजाबाद, मैनपुरी, मथुरा और एटा में हुई पुलिस परेड के दौरान महकमे की सबसे पुरानी रायफल 3 नॉट 3 को अंतिम विदाई दी गई। एसपी बबलू कुमार ने रायफल के इतिहास के बारे में जानकारी दी। रायफल से परेड के दौरान सलामी के देने के बाद इसे अब एक यादगार के तौर पर पुलिस लाइन में रख दिया गया। बता दें कि ब्रिटिश दौर की ये रायफल कई युद्ध का भी हिस्‍सा रह चुकी है। 

एडीजी को मिला राष्ट्रपति पुलिस पदक

एडीजी अजय आनंद को दीर्घकालिक सेवा के लिए राष्ट्रपति पुलिस पदक मिला है। शनिवार को इसकी घोषणा हो गई। उन्हें पूर्व में सराहनीय सेवा के लिए राष्ट्रपति पुलिस पदक मिल चुका है। 

एडीजी अजय आनंद 1992 बैच के आइपीएस अधिकारी हैं। वे अलीगढ़, पीलीभीत, जौनपुर, शाहजहांपुर, सोनभद्र, मुजफ्फर नगर, फीरोजाबाद, पिथौरागढ़, झांसी और मुरादाबाद समेत 18 जनपदों में पुलिस कप्तान के रूप में काम कर चुके हैं। एसपी जीआरपी लखनऊ, एसपी ईओडब्ल्यू कानपुर और एसपी सीबीसीआइडी लखनऊ के पद भी तैनात रहे हैं। वर्ष 2009 में डीआइजी मेरठ रहने के बाद वे केंद्रीय प्रतिनियुक्ति पर गए। वर्ष 2009 से 2010 तक बीएसएफ में रहने के बाद वे वर्ष 2010 से लोक सभा में ज्वाइंट सेक्रेटरी सुरक्षा के पद पर 2016 तक रहे। दो वर्ष से वे आगरा में एडीजी जोन के पद पर हैं। उनके उत्कृष्ट कार्य के लिए वर्ष 2013 में उन्हें राष्ट्रपति पुलिस पदक भी मिल चुका है। अब 25 वर्ष की सेवा पूरी करने पर उन्हें यह सम्मान मिला है।

 

Posted By: Prateek Gupta

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस