आगरा, जागरण संवाददाता। श्रीराम जन्मभूमि का भूमि पूजन, यह एक ऐसा सपना था, जो दशकों नहीं, सदियों पुराना था। इसे संपन्न होते देख पाएंगे या नहीं, लोग उम्मीद भी नहीं कर सकते थे। लेकिन यह पुण्य अवसर न सिर्फ आया, बल्कि सभी इसमें पूरी उमंग और उत्साह से शामिल भी हुए। इसलिए असल जिंदगी से लेकर सोशल मीडिया तक में इसकी खुशी दिखाई दी। फेसबुक हो या ट्विटर या वॉट्सएप, हर जगह डीपी और स्टेट्स पर जयश्रीराम ही ट्रेंड करता दिखाई दे रहा था।

फेसबुक पर हर 10 में से आठ से नौ स्टेट्स भगवान श्रीराम जन्मभूमि पूजन या मंदिर से जुड़े थे, जिसमें कोई पूजन के फोटो और वीडियो शेयर करता दिखा, तो कोई भगवान श्रीराम और 492 वर्ष लंबे वनवास से जुड़े स्टेट््स शेयर कर रहा था। वॉट््सएप पर हर 10 में से नौ लोगों की डीपी और स्टेट््स पर जयश्रीराम कोट््स के साथ भगवान राम की फोटो अपलोड की गई थी। ट््िवटर पर भी हैशटैग जयश्रीराम ने खूब ट्रेंड किया और करीब 368 के से ज्यादा लोगों ने हैशटैग राममंदिर, 261 के लोगों ने हैशटैग राम मंदिर अयोध्या और इससे ही तमाम मिलते-जुलते हैशटैग से सुबह से रात तक ट्रेंड किया।

यह पोस्ट रहे ट्रेंड में

- जोर से बोलो जयश्रीराम

- सिया वर रामचंद्र की जय

- वोटिंग का फोटो दिखाकर हो गए पैसे वसूल।

- भूमि पूजन में शामिल के पारासरण के फोटो भी खूब वायरल हुए।

- आज की दीपावली 500 वर्ष बाद आई है।

- मुंह मीठा कीजिए, श्रीराम जन्मभूमि पूजन की शुभकामनाएं।

- सजा दो घर को दीपों सेे मेरे सरकार आए हैं, लगे कुटिया भी दुल्हन सी, अवध में राम आए हैं।

सुबह से सतर्क रही पुलिस, सड़कों पर घूमते रहे अधिकारी

अयोध्या में बुधवार को राम मंदिर निर्माण के भूमि पूजन को लेकर आगरा में सुबह से ही पुलिस अलर्ट रही।

डीएम प्रभु एन सिंह और एसएसपी बबलू कुमार सुबह साढ़े नौ बजे मंटोला में पहुंच गए। यहां उन्होंने पुलिस और पीएसी के साथ मार्च किया। मंटोला, ढोलीखार, मीरा हुसैनी होते ही अधिकारी चिम्मन पूड़ी चौराहा पहुंचे। इसके बाद शहीद नगर, लोहामंडी और हरीपर्वत क्षेत्र में भी अधिकारियों ने भ्रमण किया। शहर को 15 सेक्टरों में बांटकर इनमें पुलिस और प्रशासनिक अधिकारियों की ड्यूटी लगाई गई। एसएसपी बबलू कुमार ने रात में ही सभी थाना प्रभारियों को रेडियो कांफ्रेंङ्क्षसग से निर्देश दिए। शहर के मिश्रित आबादी वाले इलाकों में पुलिस के साथ-साथ पीएसी और आरआरएफ भी तैनात रही। खुफिया एजेंसी भी यहां की हर गतिविधि पर नजर रखे हैं। प्रत्येक थानों की फोर्स के साथ चार कंपनी पीएसी, एक कंपनी आरएएफ, 200 रिक्रूट सिपाही को लगाया गया। एडीजी अजय आनंद और आइजी ए सतीश गणेश भी लगातार अधिकारियों से हालात की जानकारी लेते रहे।  

Posted By: Tanu Gupta

इंडियन टी20 लीग

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस