आगरा, जेएनएन। सोमवार दोपहर टूंडला से कानपुर की ओर जा रही मालगाड़ी के वैगन डाला खुला होने के कारण ओएचई पोल क्षतिग्रस्त हो गया। हादसे के चलते दो घंटे तक डाउन लाइन की गाडिय़ां पिछले स्टेशनों पर खड़ी रहीं। इसके चलते रेल यात्री परेशान रहे।

दोपहर करीब दो बजे जीएन 103 मालगाड़ी टूंडला से कानपुर की ओर जा रही थी। ट्रेन फीरोजाबाद व मक्खनपुर रेलवे स्टेशनों के बीच स्थित खंबा नंबर 1231/20 के समीप पहुंची तभी एक डिब्बे का डाला (गेट) खुलकर ओएचई (ओवर हेड इलेक्ट्रिक) पोल तेजी से टकरा गया, जिससे पोल झुक गया और करंट बंद हो गया। ट्रेन भी स्टार्टर सिगनल के समीप जाकर खड़ी हो गई। तत्काल ट्रेन चालक ने नियंत्रण कक्ष को घटना की जानकारी दी। आनन-फानन में पीछे आ रही डाउन लाइन की ट्रेनों को पिछले स्टेशनों पर रोका गया। एसएनटी विभाग (सिगनल विभाग) की टीम मौके पर पहुंच गई। करीब दो घंटे बाद पोल को ठीक किया गया। तब कहीं जाकर सवा चार बजे डाउन लाइन का यातायात शुरु हो सका। ट्रेनों के पिछले स्टेशनों पर खड़े रहने के कारण यात्रियों को गर्मी में परेशानी उठानी पड़ी। डाउन लाइन बंद रहने से रेल प्रशासन में हड़कंप मचा रहा। इस दौरान डाउन लाइन की तूफान मेल, महाबोधी एक्सप्रेस, नई दिल्ली-रांची एक्सप्रेस समेत अन्य ट्रेनें प्रभावित रहीं।

डाले ने अलीगढ़ में ले ली थी दो की जान

डाला खुलने से पोल टूटने की यह कोई पहली घटना नहीं है। इससे पूर्व भी कई घटनाएं घटित हो चुकी है। अलीगढ़ स्टेशन पर मालगाड़ी का डाला खुलने से स्टेशन पर खड़े होकर ट्रेन का इंतजार कर रहे दो यात्रियों की मौत हो गई थी। कई यात्री घायल भी हुए थे। बावजूद इसके रेल प्रशासन लापरवाह बना हुआ है।

 

लोकसभा चुनाव और क्रिकेट से संबंधित अपडेट पाने के लिए डाउनलोड करें जागरण एप

Posted By: Tanu Gupta