आगरा, जागरण संवाददाता। प्रॉपर्टी डीलर की दिनदहाड़े हुई हत्या में आरोपितों की गिरफ्तारी न होने से आक्रोश बढ़ता जा रहा है। गुरुवार को परिजन एसएसपी ऑफिस के बाहर धरने पर बैठ गए। शाम को एडीएम सिटी के पांच दिन में पर्दाफाश करने के आश्वासन के बाद उन्होंने धरना समाप्त किया।

सिकंदरा के ककरैठा निवासी प्रॉपर्टी डीलर बबलू यादव की 15 मार्च को होली पब्लिक स्कूल के पास गोली मारकर हत्या कर दी गई थी। वारदात को बाइक सवार तीन बदमाशों ने अंजाम दिया था। यह वारदात शाम को उस समय हुई थी जब बबलू यादव अपने भतीजे को कोचिंग छोड़कर लौट रहे थे। सीसीटीवी कैमरे में हत्यारों के फुटेज भी आए मगर, पुलिस उन तक नहीं पहुंच सकी। परिजनों का कहना है कि मौके पर 72 घंटे में पर्दाफाश का आश्वासन देकर अधिकारी अब उनकी बात तक नहीं सुन रहे। इससे आक्रोशित बबलू के परिजन गुरुवार को दोपहर कलक्ट्रेट पहुंचे और एसएसपी ऑफिस के बाहर धरना शुरू कर दिया। बबलू के परिजन एसएसपी से मिले। उन्होंने एसपी सिटी और एएसपी को बुलाकर उनसे वार्ता कराई। अधिकारियों ने काफी देर तक वार्ता की। मगर, स्पष्ट आश्वासन नहीं दिया। उनका कहना था कि कब तक हत्यारोपित पकड़े जाएंगे, अभी कुछ कह नहीं सकते। इसके बाद परिजन धरने पर बैठ गए। उन्होंने जिला प्रशासन, जिला पुलिस मुर्दाबाद के नारे भी लगाए। शाम 5:30 बजे एडीएम सिटी केपी सिंह धरनास्थल पर पहुंचे। उन्होंने आश्वासन दिया कि पांच दिन में पुलिस हत्यारोपितों को पकड़ लेगी। इसके बाद धरना समाप्त हुआ। धरने में बबलू के पिता राजेंद्र सिंह, मां सोन देवी, पत्‍‌नी शिल्पी, भाई विनीत, चचेरे भाई सुनील समेत अन्य परिवार के लोग शामिल हैं।

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप