आगरा, जागरण संवाददाता। कोरोना संक्रमण काल में लगातार बढ़ रहे मौतों के आंकड़े और मोक्षधाम पर अंतिम संस्कार के लिए सुबह से देर रात तक शवों के अंतिम संस्कार के लिए लगी लाइन के दृश्य लोगों को द्रवित कर रहे हैं। महामारी से संक्रमित होने के डर और दहशत के चलते लोग अपनों को भी कंधा देने नहीं पहुंच रहे हैं। इन हालातों में महामारी से जिंदगियों को बचाने के लिए सोमवार को मोक्षधाम पर प्रार्थना का आयोजन किया गया। यह प्रार्थना शाम छह बजे से शुरू होकर मंगलवार की सुबह छह बजे तक चली।

क्षेत्रीय बजाजा कमेटी के अध्यक्ष अशोक गोयल ने बताया कि कोरोना संक्रमण काल में मोक्षधाम और विद्युत शवदाह गृह पर एक महीने से शवों के अंतिम संस्कार की संख्या बढ़ी है। महामारी समेत अन्य कारणें से होने वाली मौतों को कम करने और लोगों की जिंदगियों को बचाने के लिए कमेटी ने ईश्वर की प्रार्थना करने का निर्णय लिया। इसके तहत सोमवार शाम छह बजे से मोक्षधाम परिसर में बने हाल में सुंदर कांड का आयोजन शुरू किया गया। इसके बाद मोक्षधाम में बने काल भैरव मंदिर एवं यमुना किनारे स्थित भैराे मंदिर पर दीप जलाया गया। दोनों मंदिरों पर कोराेना संक्रणम के शिकार लोगों की जिंदगी बचाने की प्रार्थना की गई।

मंदिरों पर हुई प्रार्थना में विधायक पुरुषोत्तम खंडेलवाल, बजाजा कमेटी अध्यक्ष अशोक गोयल और मोक्षधाम प्रभारी मनोज शर्मा ने दीप जलाया। उनके साथ सुनील विकल, समीर अरोड़ा, प्रिया शर्मा, वंदना शर्मा, रश्मि शर्मा, राजीव अग्रवाल, ऋषि मित्तल आदि भी मौजूद रहे। अशोक गोयल ने बताया कि महामारी से लोगों की मुक्ति के लिए 12 घंटे की प्रार्थना आयोजन किया गया। यह मंगलवार की सुबह छह बजे तक जारी रही।

मोक्षधाम पर जलींं 70 चिताएं

मोक्षधाम पर शवों का अंतिम संस्कार करने वालों की सोमवार को भी लाइन लगी रही। मोक्षधाम प्रभारी मनोज शर्मा के अनुसार सुबह छह बजे से देर रात तक 70 शवों का अंतिम संस्कार किया गया।

विद्युत शवदाह गृह की दूसरी भट्टी भी शुरू

विद्युत शवदाह गृह की दूसरी भट्टी भी सोमवार की दोपहर 11 बजे शुरू हो गई। सोमवार को विद्युत शवदाह गृह में 20 शवों का अंतिम संस्कार किया गया। विद्युत शवदाह गृह के प्रभारी संजीव गुप्ता ने बताया कि तीसरी भट्टी भी पांच जुलाई तक चालू हो जाएगी। 

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप