आगरा, वीरभान सिंह। रुपयों की जरूरत है और एटीएम खाली पड़े हैं तो अब परेशान होने की जरूरत नहीं है। डाकिया घर पहुंचकर रुपये उपलब्ध कराएंगे। डाक विभाग ने अब एईपीएस (आधार इनेबिल्ड पेमेंट सिस्टम) की शुरुआत कर दी है। इस नई व्यवस्था के तहत अब डाकिया घर-घर सिर्फ रुपये ही नहीं पहुंचाएंगे बल्कि एटीएम की तरह काम भी करेंगे। वे आपके खाते से रुपये निकालकर आपके द्वारा भरी गई धनराशि मुहैया कराएंगे। भले ही आपका खाता किसी भी बैंक में संचालित हो रहा हो। खास बात यह है कि इस सुविधा का लाभ सिर्फ वही उपभोक्ता उठा सकेंगे, जिनका खाता आधार कार्ड से लिंकअप हो चुका है। रुपये निकालने के साथ डाकिया मनी ट्रांसफर, खातों में बैलेंस की जानकारी और स्टेटमेंट भी दिखा सकेंगे।

सिस्टम ऐसे करेगा काम

एईपीएस सुविधा पूरी तरह से इंटरनेट आधारित है। इसके लिए पोस्टमैन को विभाग की ओर से एक एंड्रॉयड मोबाइल फोन और बायोमेट्रिक डिवाइस उपलब्ध कराई गई है। एंड्रायड मोबाइल को बायोमैट्रिक डिवाइस से ङ्क्षलक करना होगा। इसके बाद विभाग द्वारा सभी मोबाइल में इंस्टॉल कराए गए माइक्रो एटीएम ऑप्शन को खोलना होगा। बाद में डाकिया को अपना आइडी नंबर फीड करना होगा। इसके बाद संबंधित ग्राहक के आधार कार्ड नंबर को सॉफ्टवेयर में दर्ज करना होगा। सत्यापन होने के बाद ही ग्राहक को रुपयों का भुगतान हो सकेगा।

पांच हजार रुपये ही लेकर चलेंगे डाकिया

दो सितंबर से लागू की गई इस सेवा के लिए शुरुआत में डाकिया को पांच-पांच हजार रुपये ही उपलब्ध कराए जाएंगे। पोस्ट ऑफिस के जन संपर्क निरीक्षक राजेश सक्सेना का कहना है कि यदि किसी उपभोक्ता को ज्यादा रुपयों की जरूरत है तो उन्हें पहले से फोन करके रुपयों की आवश्यकता की जानकारी देनी होगी। तभी डाकिया बताई गई रकम लेकर घर पहुंच सकेंगे। इस व्यवस्था के तहत लिमिट निर्धारित है। कोई भी खाता धारक एक दिन में अधिकतम 10 हजार रुपये तक ही निकाल सकते हैं।

विभाग के सामने है चैलेंज

एईपीएस सेवा डाक विभाग के लिए किसी चुनौती से कम नहीं है क्योंकि पूरे मैनपुरी जिले में महज 381 डाकिया हैं जिसमें शहर के मात्र 90 डाकिया हैं। जबकि उपभोक्ता लगभग एक लाख के आसपास हैं। ऐसे में एक साथ इतनी बड़ी संख्या में उपभोक्ताओं को सुविधा उपलब्ध करा पाना परेशानी हो रही है। पोस्ट मास्टर आशीष सक्सेना का कहना है कि इस समस्या से निपटने के प्रयास भी किए जाएंगे।

एक नजर में

- 10 हजार रुपये तक की ही निर्धारित की गई है लिमिट।

- पांच-पांच हजार रुपये शुरुआत में डाकिया को दिए गए हैं।

- जिले में 42 पोस्ट ऑफिस और 291 ब्रांच पोस्ट ऑफिस हैं, जिनमें 381 डाकिया हैं। 

Posted By: Prateek Gupta

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप