आगरा, जागरण संवाददाता। वाहन चोर गिरोह से साठगांठ कर खाकी के दामन को दागदार करने वाले सिपाहियों का कच्चा चिट्ठा खुलने लगा है। जिले में दो तैनात दो सिपाही फरार हो गए हैं। वहीं तीसरे सिपाही आगरा के पुलिस लाइन में तैनात है। एसएसपी के सख्त रवैए के बाद पुलिस महकमे में खलबली मच गई है। वहीं मुकदमे में नाम खुलने के बाद तीनों सिपाहियों की तलाश तेज कर दी है। वाहन चोरों के गैंग से साझीदार रहे तीनों सिपाही अलीगढ़ जिले के रहने वाले हैं।

पचोखरा पुलिस ने गुरुवार रात बाइक चोरी गैंग के आरोप में गौतम कुमार, रजत, राहुल निवासीगण गांव देवखेड़ा व संतोष कुमार निवासी पचोखरा को गिरफ्तार किया था। उनके पास से चोरी की 11 बाइकें बरामद की गई थी। पुलिस पूछताछ में बाइक चोरी गैंग में आरक्षी सुरेंद्र सिंह, प्रवीन कुमार व दलवीर की संलिप्तता पाई गई थी। चोरी की बाइकों को ये तीनों सिपाही पहले खुद चलाते थे और फिर बेच देते थे। इसके बाद एसएसपी अशोक कुमार शुक्ला ने सख्ती से कार्रवाई करते हुए मुकदमे में तीनों सिपाहियों को नामजद कराया। एसओ पचोखरा रविंद्र कुमार का कहना है कि आरोपित सिपाहियों की तलाश की जा रही है। पकड़े न जाने पर कुर्की की कार्रवाई की जाएगी।

मीडियाकर्मी भी थे गिरोह के साझीदार: एसएसपी ने बताया कि शातिर वाहन चोर गैंग आगरा और अन्य जिलों से वाहन चोरी करता था। तीन सिपाहियों के अलावा कुछ मीडियाकर्मी भी चोरी की गाडिय़ां चलाते थे। इनके बारे में जांच कराई जा रही है। चोरी के वाहन लेने वाले भी अपराध के सहभागी है और उन्हें किसी भी हाल में नहीं छोड़ा जाएगा।

तेल चोरी में शामिल था सुरेंद्र कुमार: इन दिनों निलंंबित चल रहा कांस्टेबल सुरेंद्र कुमार मूलरूप से पैंतरा थाना अतरौली का रहने वाला है। पचोखरा थाने में तैनात रहते हुए इसके रिश्ते तेल चोर गैंग से भी थे। एत्मादपुर आयल डिपो से निकलने वाले टैंकरों से शातिरों का गिरोह तेल चोरी करता था। एसडीएम टूंडला ने टैंकर पकड़ा था। बताया गया कि सुरेंद्र ने टैंकर की दोबारा सील लगवाई थी। नाम सामने आने के बाद उसे निलंबित कर दिया गया। निलंबित होने से पहले यह परिवार के साथ थाना परिसर में आवास में रहता था।

ईगल मोबाइल में शामिल था प्रवीन: अलीगढ़ जिले के पिसावां थाने के पोस्टिका का रहने वाला प्रवीन पचोखरा थाने की ईगल मोबाइल में तैनात था। परिवार के साथ कस्बे में किराए से रहता था। इसी दौरान उसके वाहन चोर गिरोह से संबंध बने और वह चोरी की बाइक लेने लगा। मामला खुलने से चार दिन पहले वह छुट्टी पर गया था और वापस नहीं लौटा।

तबादले से पहले वाहन चोरों का साथी था दलवीर: वाहन चोर गैंग के हिस्सेदार होने का आरोपी कांस्टेबल दलवीर अलीगढ़ के पिसावा थाने के पल्सेड़ा का रहने वाला है। थाने पर तैनाती के दौरान इसके वाहन चोर गैंग से रिश्ते बने, लेकिन यह लगभग छह माह पूर्व आगरा तबादले पर चला गया।

Edited By: Prateek Gupta