आगरा, जेएनएन। नौ नवंबर, शनिवार को अयोध्‍या मामले में फैसला आने के बाद शुक्रवार को जुमे की पहली नमाज हुई। नमाज से पूर्व बनी संदेह की स्थिति नमाज खत्‍म होते- होते शांत फिजा में बदल गई। प्रशासन की ओर से किसी भी अप्रिय स्थिति से निपटने के लिए पहले ही इंतजाम कर लिए गए थे। नमाज को लेकर शहर में पुलिस और रैपिड एक्शन फ़ोर्स सतर्क था। मिश्रित आबादी वाले क्षेत्रों में चौराहों पर पुलिस तैनात रही। जामा मस्जिद के बाहर भी पुलिस बल तैनात रह। उधर मथुरा में शहर से लेकर ग्रामीण इलाकों में पुलिस ने फ्लैग मार्च किया।

जुमे की नमाज को लेकर शुक्रवार को पुलिस ने विशेष सतर्कता बरती। सेक्टर स्कीम लागू करने के साथ ही खुफिया विभाग भी मिश्रित आबादी वाले इलाकों में सक्रिय रहा। नमाज के वक्त मिश्रित आबादी वाले इलाकों के साथ-साथ जामा मस्जिद के आसपास कड़े सुरक्षा इंतजाम रहेे।

अधिकारी भी इन इलाकों में भ्रमणशील रहेे। इससे पूर्व गुरुवार को इसकी तैयारियों में अधिकारी लगे रहे। किसी भी तरह की अफवाह फैलाने वालों से सख्ती से निपटने की पहले ही तैयारी कर ली गई थी। एसएसपी बबलू कुमार ने बताया कि शांति व्यवस्था बनाए रखने को पुलिस फोर्स की ड्यूटी लगाई गई थी।

 

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस