आगरा, जागरण संवाददाता। आज का दिन खास है। सुबह भी खास है। पांच सौ वर्षों के बाद भगवान श्रीराम के मंदिर का निर्माण आरंभ होने जा रहा है। इस तारीख यानि पांच अगस्त को अयोध्या में श्रीराम मंदिर के भूमि पूजन और शिलान्यास को लेकर चौतरफा उत्साह है। इस दिन को महापर्व के रूप में मनाया जा रहा है। पांच अगस्त का दिन खास हो, इसके लिए शहर की महिलाएं भी तैयारी कर रही हैं। दिन को यादगार बनाने के लिए कुछ महिलाएं पौधे भी लगाएंगी।

दयालबाग निवासी विनीता मित्तल कहती हैं कि लंबी प्रतीक्षा संघर्ष व तप के बाद यह दिन आया है। इस दिन को यादगार बनाने के लिए मैं सुबह अपने बच्चों और सहेलियों के साथ पौधारोपण करूंगी। रात में दीपक जलाएंगे। पांच अगस्त का दिन महज अयोध्या के लिए ही नहीं, बल्कि भारतवर्ष के लिए गौरवशाली है। हमारे पूर्वजों ने इसके लिए लंबा संघर्ष किया। यह कहना है भारतीय जनता पार्टी, महानगर मंत्री महिला मोर्चा आशा अग्रवाल का। वे कहती हैं कि अब वह दिन आ गया है जिसका लंबे समय से इंतजार था। मेरी पूरी कालोनी में सभी अपने-अपने घरों में दीप जलाएंगे।आवास विकास कालोनी की आशा ङ्क्षसह कहती हैं कि हमारी कालोनी के मंदिर में हम पूजा करेंगे। श्री राम के नाम का जाप करेंगे। यही वो दिन है जिसका एतिहासिक महत्व बच्चों को बताना है ताकि उनको भी अपनी धर्म-संस्कृति के बारे में जानकारी हो। प्रीता ङ्क्षसघल ने बताया कि उन्होंने दीपक, सरसों के तेल और बाती का पूरा सेट लोगों को उपलब्ध कराया है। इस दिन को यादगार बनाने के लिए दीपावली की तरह ही घरों को रोशन करेंगे और मैं अपने घर पर रंगोली भी बनाऊंगी।

आरडब्‍ल्‍यूए ने मैसेज कर दिए पास

शहर की तमाम नवविकसित कॉलोनियोंं और बहुमंजिला इमारतों में एक दिन पहले ही यानि मंगलवार को संदेश प्रसारित कर दिए गए। सभी वासियों से अनुरोध किया गया है कि बुधवार शाम को कम से कम पांच दीप तो जरूर जलाएं। उससे ज्‍यादा जलाते हैं तो और अच्‍छा लगेगा। पूरी इमारतों को रात में रोशनी से नहलाने की तैयारी हो गई है।

 

Posted By: Prateek Gupta

इंडियन टी20 लीग

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस