आगरा, जागरण संवाददाता। कोरोना वायरस संक्रमण की तीसरी लहर बच्चों के लिए खतरनाक बताई जा रही है। इसे लेकर सरकार चिकित्सीय सेवाओं को मजबूत करने में जुटी हुई है। इसी तरह अभिभावक भी अपने बच्चों को शारीरिक रूप से मजबूत बना रहे हैं, जिससे तीसरी लहर का सामना वे मजबूती से कर सकें। डाइटीशियनों और चिकित्सकों से डाइट चार्ट तैयार करवाए जा रहे हैं, जिससे बच्चों की रोग प्रतिरोधक क्षमता को मजबूत बनाया जा सके।

डाइटीशियन शिल्पा अग्रवाल ने बताया कि हर रोज 10 से 15 फोन अभिभावकों के आते हैं, जो अपने बच्चों को लेकर चिंतित हैं। वे बच्चों के भोजन में हर वो पौष्टिक तत्व शामिल करवाना चाहते हैं, जो उनकी रोग प्रतिरोधक क्षमता को मजबूत बनाए। डाइटीशियन रेणुका डंग ने बताया कि हम अभिभावकों को समझा रहे हैं कि कोरोना की तीसरी लहर से डरें नहीं बल्कि सचेत रहें और बच्चों को भी समझाएं कि उन्हें क्या करना, क्या खाना है। चिकित्सक डा. रविंद्र भदौरिया ने बताया कि तीसरी लहर बच्चों के लिए जानलेवा नहीं होगी, बस यह इंतजाम करें कि बच्चों की रोग प्रतिरोधक क्षमता को मजबूत कर दें, जिससे वो इस वायरस का सामना कर सकें।

ऐसी हो बच्चों की डाइट

- बच्चों के भोजन में विटामिन डी जरूर शामिल करें। शाकाहारी लोग मशरूम से विटामिन डी ले सकते हैं तो मांसाहारियों के लिए मछली, अंडे की जर्दी काफी फायदेमंद है। इसके अलावा हर रोज बच्चों को थोड़ी देर के लिए सुबह की धूप में बैठाएं।

- विटामिन सी युक्त चीजें भोजन में शामिल करें, जैसे शिमला मिर्च, नींबू आदि। इसके साथ ही रोज एक घंटा बच्चे को शारीरिक कसरत करने को कहें।

- नवजात बच्चों को स्तनपान ही कराएं।

- बच्चों की डाइट में रेनबो रंगों की होनी चाहिए। इसमें सब्जियां, फल, मेवे आदि शामिल करें।

- भोजन में अदरक, लहसुन, हल्दी, काली मिर्च का इस्तेमाल जरूर करें।

- बच्चों की डाइट में प्रोटीन जरूर शामिल करें। प्रोटीन के लिए दही, दूध, अंडा, दालें, बीज आदि दें।

Edited By: Prateek Gupta