आगरा, जागरण संवाददाता। ताजनगरी में चार लाख से अधिक लोगों को सुरक्षा कवच मिल गया है, चार लाख से अधिक लोगों के वैक्सीन की दोनों डोज लगाई जा चुकी हैं। करीब 32 लाख लोगों को वैक्सीन की दोनों डोज लगाई जानी है, 17 लाख लोगों को वैक्सीन की पहली डोज लग चुकी है।

16 जनवरी से वैक्सीन लगाई जा रही है। जिले में 18 से अधिक उम्र के 32 लाख लोग हैं, इन सभी को वैक्सीन की दोनों डोज लगाई जानी है। अभी तक 2120301 वैक्सीन की डोज लगाई जा चुकी हैं। जिला प्रतिरक्षण अधिकारी डा एसके वर्मन ने बताया कि 1709243 लोगों के वैक्सीन की पहली डोज ही लगी है। जबकि 411058 लोगों के वैक्सीन की दोनों डोज लग चुकी है।

दोनों डोज लगने के बाद बन रही एंटीबाडीज

कोरोना वायरल के खिलाफ एंटीबाडीज वैक्सीन की दोनों डोज लगने के बाद बन रही हैं। कोवाक्सीन की पहली डोज लगने के 28 दिन बाद दूसरी डोज लगाई जा रही है। वहीं, कोविशील्ड की दूसरी डोज लगने के 84 दिन बाद दूसरी डोज लग रही है। इसके चलते दूसरी डोज लगवाने वालों की संख्या कम है, लेकिन इसे तेज किया जा रहा है।

शनिवार को लगाई जा रही केवल दूसरी डोज

कोरोना वैक्सीन की दो डोज लगाई जानी है, दूसरी डोज लगवाने वालों की संख्या कम है। इसे देखते हुए शनिवार को वैक्सीन की दूसरी डोज ही लगाई जा रही है। बिना पूर्व पंजीकरण दूसरी डोज लगाने की सुविधा दी गई है। इसके चलते शनिवार को शहर के स्‍वास्‍थ्‍य केंद्रों पर बड़ी संख्‍या में लोग पहुंच रहे हैं। चुनिंदा केंद्रों पर ही कोवैक्‍सीन लग रही है, जबकि अन्‍य केंद्रों पर कोविशील्‍ड उपलब्‍ध कराई गई है।

 

दफ्तरों में मांग रहे सर्टिफिकेट

युवाओं के कोरोना वैक्‍सीन लगवाने के लिए स्‍वत: जागरूक होने के पीछे एक बड़ी वजह ये भी है कि अब दफ्तरों में कोरोना वैक्‍सीन का सर्टिफिकेट जमा कराए जाने को कहा जा रहा है। दोनों डोज लगवाने के बाद मिलने वाले सर्टिफिकेट को ज्‍यादातर दफ्तरों में अनिवार्य कर दिया गया है।

Edited By: Prateek Gupta