आगरा, जेएनएन। कासगंज के सिढ़पुरा रोड पर दौड़ लगाने के लिए गए युवक का शव मिलने से सनसनी फैल गई। ग्रामीण सड़क पर जमा हो गए। ग्रामीणों ने युवक की हत्या का आरोप लगाते हुए तीन लोगों के खिलाफ तहरीर दी है। सड़क से शव उठाने के लिए पुलिस को खासी मशक्कत करनी पड़ी। इसके चलते यहां करीब तीन घंटे तक जाम के हालात रहे। हालांकि पुलिस मामले को हादसा मान रही है। 

अमांपुर कोतवाली क्षेत्र के सिढपुरा रोड पर स्थित गांव अर्जुनपुर कदीम निवासी 18 वर्षीय विकास उर्फ नन्हे भर्ती की तैयारी कर रहा था। रोज की तरह वह सुबह साढ़े चार बजे दौड़ लगाने के लिए दोस्तों के साथ घर से निकला। दोस्त कुछ आगे निकल गए। जब लौटकर आए तो उन्हें विकास नहीं मिला। साथिंयों ने परिजनों को सूचित किया तो परिजन भी यहां पर पहुंच गए। विकास की तलाश में परिजनों ने अमांपुर रोड सहित कई जगह पर जांच की। करीब दो घंटे की तलाश के बाद में विकास का शव सड़क किनारे गड्ढे में मिला। परिजनों के अनुसार विकास के गले पर चोट के निशान थे तथा नाक से खून बह रहा था। साढ़े आठ बजे करीब पुलिस पहुंची तो ग्रामीणों ने पुलिस पर देरी से आने का आरोप लगाया। ग्रामीण शव उठाने देने के लिए भी राजी नहीं थे। सीओ गवेंद्र पाल गौतम ने मौके पर पहुंच परिजनों को समझाया। इसके बाद करीब साढ़े 11 बजे शव उठ सका। मृतक के पिता उग्रसेन ने बड़े बेटे के ससुरालीजनों पर हत्या का आरोप लगाते हुए थाने में तहरीर दी है। इसमें एटा के गांव मिल्क निवासी बड़े बेटे के ससुर रतन सिंह, साले सुनील सहित एक अन्य को आरोपित बनाया है। 

परिजनों ने कहा आरोपित को देखा था जाते हुए

परिजनों ने पुलिस से पूछताछ में कहा कि बेटे की तलाश के दौरान उन्होंने आरोपित को जाते हुए देखा। पीछा कर उसे अमांपुर के निकट पकड़ कर पूछा कि कहां जा रहे हो तो उसने कासगंज जाने की बात कही। जब तक शव नहीं मिला था लिहाजा परिजनों को ऐसी अनहोनी की आशंका नहीं थी। बाद में शव मिलने पर तलाश किया तो आरोपित नहीं मिला। पुलिस इस बयान की भी जांच कर रही है। 

एक बस निकली थी यहां से 

पुलिस ने इस मामले में विस्तार से पड़ताल की। विकास के साथ दौडऩे वाले साथियों से भी पूछताछ की। बताया जाता है साथियों ने पूछताछ में बताया है कि इस दौरान एक रोडवेज की बस यहां से गुजरी थी। ऐसे में पुलिस मानकर चल रही है कहीं बस से तो हादसा नहीं हुआ। 

परिजनों की तहरीर पर हत्या का मुकदमा दर्ज हुआ है। मृतक के आंख के नीचे चोट का निशान है। हादसा होने की संभावना से भी इन्कार नहीं किया जा सकता है। पुलिस हर ङ्क्षबदु पर जांच कर रही है। पोस्टमार्टम रिपोर्ट के बाद स्थिति स्पष्ट होगी।

- गवेंद्र पाल गौतम, क्षेत्राधिकारी पटियाली 

 

Posted By: Tanu Gupta

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस