आगरा, जेएनएन। कांचनगरी और सुहागनगरी के नाम से भी देश में मशहूर फीरोजाबाद में डेंगू और बुखार का कहर खत्‍म होने का नाम नहीं ले रहा है। अप्रैल में कोरोना की दूसरी लहर में कोहराम मचाया तो हालात भयावह थे। बाजाराें में कोरोना कर्फ्यू और हर शाम मौत के आंकड़े डराते थे। कोरोना की दूसरी लहर में मचे कोहराम को बुखार ने पीछे छोड़ दिया है। कोरोना काल में जहां आगरा मंडल में सबसे कम मौतें हुई थी, वहीं अब डेंगू और बुखार ने कोरोना को पीछे छोड़ दिया है। आगरा मंडल में सबसे ज्यादा और तेज मौतें जिले में हो रही हैं। पिछले 37 दिनों में मरने वालों का आंकड़ा 154 पर पहुंच गया, जिसमें एक सौ दस से ज्यादा बच्चों की मौत हुई है।

जिले में कोरोना के केस पहली बार तीन अप्रैल 2020 को आए थे। इसके बाद लाकडाउन चलता रहा। अप्रैल से मार्च 2021 के बीच जिले के 70 लोगों की मौतें हुई थीं। वहीं अप्रैल 2021 में आई कोरोना की दूसरी लहर में अप्रैल और मई के बीच 65 लोगों की जान गई। अगस्त के दूसरे सप्ताह से शुरू हुआ डेंगू और बुखार अब कोहराम मचा रहा है।

सरकारी ट्रामा सेंटर में पहले जैसे हालात

कोरोना की दूसरी लहर में सबसे ज्यादा भयावह स्थिति सरकारी ट्रामा सेंटर की थी। पत्थर की बेंच और स्ट्रैचर पर मरीजों का इलाज किया जा रहा था। डेंगू और बुखार के कहर में अब हालात पुराने जैसे नजर आ रहे हैं। हर रोज मरीजों की संख्या बढ़ रही है और बेंच पर इलाज चल रहा है।

कोरोना और डेंगू से हुईं मौतों का आंकड़ा

- कोरोना से अप्रैल 2020 से मार्च 2021 तक मौतें: 70

- कोरोना से अप्रैल 2021 से मई 2021 तक मौतें: 65

- डेंगू और बुखार से 11 अगस्त से 31 अगस्त तक मौतें: 55

- डेंगू और बुखार से 1 सितंबर से 14 सितंबर तक माैतें: 101

मौत की रफ्तार, 14 दिन 82 मौतें

एक सितंबर- छह

दो सितंबर- नौ

तीन सितंबर- चार

चार सितंबर- चार

पांच सितंबर- पांच

छह सितंबर- चार

सात सितंबर- चार

आठ सितंबर- आठ

नौ सितंबर- पांच

10 सितंबर- पांच

11 सितंबर- छह

12 सितंबर- चार

13 सितंबर- आठ

14 सितंबर- दस

15 सितंबर- सात

16 सितंबर- 12

डेंगू से मौतों के आंकड़े में स्वास्थ्य विभाग की बाजीगरी

डेंगू के कहर को रोकने में नाकाम स्वास्थ्य विभाग अब मौत के आंकड़ों को छुपाने लगा है। बाजीगरी का खेल ऐसा चल रहा है कि मौतें रिकार्ड में दर्ज नहीं की जा रही है। हर दिन मासूम काल के गाल में समा रहे हैं और बस्तियों में चीत्कार मचा है। जवान आगरा से दिल्ली के अस्पतालों में दम तोड़ रहे हैं। मौतों के आडिट और घर-घर जाकर सर्वे की कहानी मनमाने तरीके से लिखी जा रही है। असलियत यह है कि 14 सितंबर तक अब तक डेंगू और बुखार 135 से ज्यादा जिंदगी लील चुका है और स्वास्थ्य विभाग का आंकड़ा 61 पर सिमटा है।

Edited By: Prateek Gupta