आगरा, विमल कुलश्रेष्ठ। सुहागनगरी के कारखानों में बनने वाले कांच आइटम सालों से देश भर में अपनी चमक बिखरे रहे हैं। अब कांच उत्पादन लगातार महंगा होने के बाद दिल्ली, फरीदाबाद के मेलामाइन व सिरेमिक आइटम तेजी से कांच के बाजार पर कब्जा जमा रहे हैं, जो कांच उद्योग के लिए बड़े खतरे की घंटी है।

सुहागनगरी का ग्लास डेकोरेशन कारोबार कांच उद्योग की रीढ़ की हड्डी माना जाता है। शहर में दो सौ से अधिक ग्लास डेकोरेशन की यूनिट हैं। इनमें लेमन सेट, डिनर सेट, बाउल सेट, पुडिंग सेट सहित कई आकर्षक गिफ्ट पैक तैयार होते हैं। ग्लास डेकोरेशन से जुड़े प्रमुख कारोबारियों की मानें तो पिछले चार सालों में कांच उत्पादन में प्रयोग होने वाली नेचुरल गैस, सोडा व केमिकल के रेट 25-30 प्रतिशत तक महंगा हो गया है। कांच आइटमों की कीमत बढ़ने के कारण बाजार में डिमांड तेजी से घट रही है। अब शादी समारोह सहित अन्य कार्यक्रमों में गिफ्ट देने के लिए फरीदाबाद व दिल्ली में बनने वाले मेलामाइन, सिरेमिक, प्लास्टिक व खुर्जा से कप की डिमांड बढ़ी है। अब कांच बाजार पर मेलामाइन व सिरेमिक आइटमों ने 60 फीसद तक कब्जा जमा लिया है।

कारोबार पर एक नजर

250 से ज्यादा शहर में डेकोरेशन की फर्म- 500 करोड़ का होता है सालाना कारोबार- 200 करोड़ से अधिक दीपावली पर होता है कारोबार- 100 करोड़ से अधिक मेलामाइन व सिरेमिक का सालाना कारोबार।

क्या है मेलामाइन

मेलामाइन प्लास्टिक दाने का पाउडर होता है। उसको मशीन में जाकर मेल्ट किया जाता है। इसके बाद डाई से आइटम तैयार किए जाते हैं।

क्या है सिरेमिक

सिरेमिक आइटम कच्ची मिट्टी के क्ले पाउडर से बनाए जाते हैं। डाई की मदद से आइटम तैयार करने के बाद उनको आग से पकाया जाता है, जिससे वह काफी मजबूत हो जाते हैं।

कांच से है सस्ता

कांच आइटम तैयार करने में कांच के साथ नेचुरल गैस, सोडा व अन्य केमिकल प्रयोग किए जाते हैं। इसकी कीमत पिछले कुछ सालों से 25 से 30 फीसद तक बढ़ी हैं। जबकि मेलाइमन पाउडर 40 से 100 रुपये प्रति किलो तक आता है। मेलामाइन के अधिकांश आइटम 40 रुपये प्रति किलो के पाउडर से तैयार होते हैं, जिससे कांच की अपेक्षा यह काफी सस्ता पड़ता है। क्ले पाउडर भी कांच से सस्ता होता है।

100-250 रुपये तक बिक रहे गिफ्ट पैक

कांच कारोबारियों का कहना है कि मेलामाइन व सिरेमिक व प्लास्टिक आइटमों की पैकेजिंग काफी आकर्षक होती है, जिससे ग्राहक उन आइटमों को अधिक पसंद करते हैं। 100 से 250 रुपये तक बाजार में गिफ्ट पैक की खूब बिक्री हैं। वहीं मेलामाइन व सिरेमिक आइटमों का 87 पीस का डिनर सेट 1200 से 1600 रुपये में उपलब्ध है।

कांच पर 18 प्रतिशत लग रहा जीएसटी

कांच कारोबारियों का कहना है कि कांच आइटमों पर 18 प्रतिशत जीएसटी देना पड़ रहा है, जबकि सिरेमिक आइटमों पर 12 प्रतिशत ही जीएसटी है। इससे सीधे तौर पर छह प्रतिशत का अंतर आता है। कांच व सिरेमिक आइटमों पर जीएसटी दर एक समान करने के लिए कई बार केंद्र व प्रदेश सरकार को ज्ञापन दिए जा चुके हैं।

कांच आइटम महंगे होने के कारण अब लोग मेलामाइन व सिरेमिक के आइटम अधिक पसंद कर रहे हैं। इन आइटमों की पैकिंग भी आकर्षक होती है। इससे सीधे तौर पर कांच उद्योग को बड़ा नुकसान हो रहा है। कांच उद्योग को बचाने के लिए सरकार को ठोस कदम उठाने होंगे।

-हेमंत अग्रवाल बल्लू, प्रमुख उद्यमी

-पिछले पांच साल में कांच आइटमों के स्थान पर मेलामाइन, सेरेमिक व प्लास्टिक का कारोबार तेजी से बढ़ता जा रहा है, जो कांच उद्योग के लिए खतरे की घंटी है। कांच उद्योग से जुड़ी समस्याओं के संबंध में डिप्टी मुख्यमंत्री को भी मांग पत्र दिया गया है।

- विनोद चौहान, डेकोरेटर्स 

Edited By: Tanu Gupta