आगरा, जागरण संवाददाता। लहरों से डरकर नौका पार नहीं होती, कोशिश करने वालों की कभी हार नहीं होती। कदम लक्ष्य की ओर बढ़ाने हैं, तो मुश्किलों का भी डटकर सामना करना होगा।

मंगलवार को हिंदुस्तान कॉलेज में एक दिवसीय कार्यशाला का आयोजन किया गया, जिसमें मंडलीय संयुक्त शिक्षा निदेशक डॉ. मुकेश अग्र्रवाल ने बोर्ड परीक्षार्थियों को तनावमुक्त रहने के लिए इसी अंदाज में प्रेरित किया।

इस मेगा काउंसिलिंग में आगरा-मथुरा जिले के हाईस्कूल और इंटर के एक हजार छात्र-छात्राओं ने प्रतिभाग किया, जिसका मुख्य उद्देश्य छात्रों को बोर्ड परीक्षा के तनाव से मुक्त कर बेहतर प्रदर्शन करने को प्रेरित करना था। शुरुआत देश की सेवा कैसे करेंगे, पढ़कर करेंगे, पढ़ाकर करेंगे, बच्चों को अच्छा इंसान बना कर करेंगे के संकल्प के साथ हुई। उन्होंने कहा कि हमें कभी सीखना नहीं छोडऩा चाहिए, क्योंकि जिंदगी हमेशा शिक्षक की भूमिका निभाती है और हमेशा सिखाती है।

उन्होंने कहा कि शिक्षा में एक छोटी सी गलती से भविष्य बदल सकती है, इसलिए विद्यालय जाना जरूरी है क्योंकि वहां जाकर ही सीख पाएंगे और सीखेंगे, तभी दुनिया में आगे बढ़ पाएंगे। सर्वश्रेष्ठ प्रतिभागियों को डॉ. मुकेश अग्र्रवाल ने सम्मानित किया। संचालन रूपाली महाजन ने किया।

शारदा ग्र्रुप के कार्यकारी उपाध्यक्ष प्रो. वीके शर्मा, कुलसचिव मनीष गुप्ता, डॉ. प्रमोद कुमार, डॉ. विनोद कुशवाहा, अनुराग वाजपेयी, डॉ. केशव देव, डॉ. ममता शर्मा, मुकुंद लाल आदि मौजूद रहे।

नकल कर देगी जिंदगी की परीक्षा में फेल

कार्यक्रम में शामिल होने पहुंचे परीक्षार्थियों ने भी विचार व्यक्त किए। सेंट जोजफ की पूजा ने देश सेवा के लिए हर काम ईमानदारी से करने पर जोर दिया। अन्य छात्रों ने कहा कि नकल करके हम परीक्षा तो पास कर लेंगे, लेकिन जिंदगी की परीक्षा में पीछे छूट जाएंगे।

सकारात्मक रहो, मिलेंगे पांच फीसद ज्यादा

संस्थान निदेशक डॉ. राजीव उपाध्याय ने कहा कि बोर्ड परीक्षा से न डरें और न तनाव लें। सकारात्मक रहकर ही आप पांच फीसद अधिक अंक प्राप्त कर सकते हैं। भूत से सीखकर भविष्य को बेहतर बनाने के लिए वर्तमान में मेहनत करें, तभी मंजिल मिलेगी। 

Posted By: Tanu Gupta

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस