आगरा जागरण संवाददाता। मौसम लगातार बदल रहा है। कभी तेज धूप निकल रही है तो कभी बादल हो रहे हैं। जून की भीषण गर्मी के बाद मानसून से उम्मीदें थीं कि आगरा को जमकर भिगोएगा। लेकिन ये उम्मीदें पहले सप्ताह में पूरी होती नहीं दिख रही हैं। आगरा में भारी बारिश की चेतावनी थी लेकिन बादल झमाझम नहीं बरसे।

रविवार को उमस ने किया परेशान

रविवार को उमस से लोग दिनभर परेशान रहे। पसीना बहता रहा। सूरज व बादलों के बीच लुकाछिपी चलती रही। अधिकतम आर्दता 98 प्रतिशत दर्ज की गई। अधिकतम तापमान 35.5 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया। शाम को हवा चलने से मौसम में बदलाव आया। मौसम विभाग का पूर्वानुमान है कि सोमवार को आसमान साफ रहेगा।

सूरज की लुकाछिपी शाम को हुई शुरू

रविवार को सुबह बादल छाए रहे और मौसम सुहावना बना रहा। दिन चढ़ने के साथ मौसम में बदलाव आना शुरू हुआ। दोपहर में धूप निकल आई। इसके बाद बादल घिर आए। सूरज व बादलों के बीच लुकाछिपी का खेल चलने से उमस बढ़ गई। इससे लोग परेशान हो उठे और पसीना बहाते रहे।

शाम को हवा चलने से मिली राहत

अधिकतम आर्दता 98 प्रतिशत और न्यूनतम आर्दता 64 प्रतिशत रही। शाम को हवा चलने से लोगों को राहत मिली। अधिकतम तापमान 35.5 डिग्री सेल्सियस और न्यूनतम तापमान 25.8 डिग्री सेल्सियस रहा। शनिवार को अधिकतम तापमान 35.6 डिग्री सेल्सियस और न्यूनतम तापमान 27.2 डिग्री सेल्सियस रहा था। मौसम विभाग का पूर्वानुमान है कि सोमवार को आसमान साफ रहेगा।

ऐसा रहेगा आने वाले दिनों में मौसम

मौसम विभाग का पूर्वानुमान है कि आने वाले पांच, छह और सात जुलाई को आंशिक बादल छाए रहेंगे और एक या दो बार बौछार पड़ सकती है। ताजनगरी में 33.4 एमएम बारिश रिकार्ड हुई

बता दें कि शनिवार रात 8:30 बजे से बारिश शुरू हुई थी, जो देर रात तक जारी रही। 33.4 एमएम वर्षा रिकार्ड की गई।

बारिश से किसानों के चेहरे खिले, खरीफ की फसलों की बुवाई की तैयारी शुरू

बारिश होने के बाद किसानों के चेहरे खिले नजर आ रहे हैं। सदर ब्लाक के गांव लुहारी निवासी किसान नेपाल सिंह ने बताया कि बारिश होने से समय पर बाजरा, मक्का सहित अन्य खरीफ की फसलों की बुवाई शुरू हो सकेगी। 

Edited By: Abhishek Saxena