आगरा, जागरण संवाददाता। कह नहीं सकते कि कब ऊपर वाला सुन ले या किस्‍मत मेहरबान हो जाए। जिंदगी की कठिनाइयों से संघर्ष कर जीवन यापन कर रही आगरा की महिला प्रीति के लिए मंगलवार मंगलकारी साबित हुआ। सुबह देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से प्रीति की सीधी बात हुई। बेबाकी से बात करने वाली प्रीति की दास्‍तां जब पीएम के सामने आई तो उन्‍होंने अफसरों को निर्देशित किया कि जाकर प्रीति के घर का हाल देखिए और जो भी दिक्‍कतें हों, उनसे मुख्‍यमंत्री योगी आदित्‍यनाथ को अवगत कराइए। बमुश्किल तीन घंटे के समय में प्रीति की जिंदगी में बदलाव आ गया है। अब उनके लिए प्रधानमंत्री आवास योजना के अंतर्गत मदद भी स्‍वीकृत हो चुकी है।

आगरा के ताजगंज निवासी प्रीति फल का ठेल लगाती हैं। लाॅॅकडाउन में व्यवसाय खत्म हो गया था और दोबारा काम शुरू करने के लिए पैसे नहीं बचे थे। प्रीति ने पीएम स्वनिधि योजना में आवेदन किया था और दस हजार रुपये का ऋण मिल गया। हर दिन प्रीति की ठीकठाक आमदनी हो जाती है। आज सुबह ई-संवाद कार्यक्रम के अंतर्गत देशभर में सबसे पहले पीएम मोदी ने प्रीति से ही बात की।

ये हैं पीएम और प्रीति की बातचीत के अंश

आगरा की प्रीति ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का जताया आभार। प्रधानमंत्री स्वनिधि योजना को प्रीति ने बताया डूबते को तिनके का सहारा। प्रीति ने बताया कि लॉकडाउन से पूर्व सब्जी की ठेल लगाती थीं, लेकिन काम ठप हो गया था। नगर निगम से सम्पर्क कर ऋण लिया। इसके बाद फल की ठेल लगवाई। प्रधानमंत्री ने पूछा कि नवरात्र में फल अधिक बिके होंगे। प्रीति ने कहा कि बिक्री ठीक हुई। बैंक की एक क़िस्त भी जमा कर दी है। पेटीएम पर भुगतान के बारे में भी पीएम ने जानकारी ली। प्रीति ने कहा कि वो चेक कर लेती हैं कि किसी ने भुगतान किया है या नहीं। पीएम ने प्रीति से परिवार के बारे में ली जानकारी। प्रीति ने लॉकडाउन में जनधन खाते, खाद्यान्न मिलने से परेशानी नहीं होने की बात कही। प्रधानमंत्री ने कहा कि अपने पैरों पर खड़ा होकर परिवार का पालन करें। बच्चों को पढ़ाएं। प्रीति ने कहा कि आप हमारी उंगली पकड़कर चलेंगे तो कुछ नहीं होगा।

पीएम ने कहा कि माताओं-बहनों के आशीर्वाद से वो काम कर रहे हैं। पीएम ने डिजिटल पेमेंट से कैशबैक का लाभ उठाने को कहा। उन्होंने कहा कि डिजिटल पेमेंट और कोरोना की सावधानी से सबके स्वास्थ्य की सुरक्षा होगी। प्रीति ने अपने पति राधेश्याम के पैरों में दिक्कत होने की भी जानकारी दी। प्रधानमंत्री ने कहा कि वो अफसरों को निर्देश देंगे, वो आपसे मिलकर परेशानी की जानकारी कर सीएम योगी जी को जानकारी देंगे।

अफसर आए हरकत में

प्रधानमंत्री से बातचीत करने वाली प्रीति के घर मंगलवार दोपहर पहुंचे डीएम प्रभु एन सिंह व नगर आयुक्त निखिल ने स्थिति का जायजा लिया। पति राधेश्याम की पीड़ा सुनकर दोनोंं अधिकारी आश्चर्यचकित रह गए। एक दुर्घटना मे राधेश्याम की पैर की अंगुली कट चुकी है। वह घर ही रहते हैंं। अधिकारियों ने मौके पर ही प्रीति के लिए प्रधानमंत्री आवास योजना अन्तर्गत आवास स्वीकृत कर दिया। डीएम के हस्तक्षेप पर आज ही उन्हें 50 हजार व डेढ़ लाख की आवास की किश्त दे दी गई है। डीएम का कहना है कि प्रीति का विश्वास देखने वाला था। प्रीति के घर की हालत ठीक नही है लेकिन अच्‍छी बात ये है कि उनका गजब का आत्‍मविश्‍वास और आत्‍म निर्भरता ने सभी को अपना मुरीद बना लिया है।  

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस