आगरा, जागरण संवाददाता। फुटवियर मैन्युफेक्चरर्स एंड एक्सपाेर्टर्स चेंबर (एफमेक) के अध्यक्ष पूरन डावर ने बताया कि आगरा का जूता उद्योग आत्मनिर्भर बन रहा है। कई नामी कंपनियों ने चीन से आयात पूरी तरह बंद कर दिया है और हम घरेलू बाजार में निरंतर ग्रोथ हासिल कर रहे हैं। निर्यात में हमारी बड़ी हिस्सेदारी है और अब स्पाेर्ट्स शूज के प्रोडक्शन में भी अपनी हिस्सेदारी निभा रहे हैं।

45 देशों के 225 से अधिक प्रदर्शक प्रतिभाग करेंगे

जूता सोल के लिए चाइना पर निर्भरता समाप्त हुई है और अब हम स्वयं का सब कुछ कर रहे हैं। इसमें अभी और सशक्त बनना है, गुणवत्ता बढ़ानी है। बहुत कुछ सीखना एवं विश्व पटल पर अपने कार्यो को दिखाना है। इसके लिए ही जूता उद्यमियों का अमृत महोत्सव एक बार फिर आयोजित होने जा रहा है, जिसमें भारत सहित 45 देशों के 225 से अधिक प्रदर्शक प्रतिभाग करेंगे।

ये भी पढ़ें... Agra Fort देखने जा रहे हैं तो ये हैं अंदर की खूबसूरत जगहें, देखकर हो जाएगा दिल खुश

मीट एट आगरा कार्यक्रम सात से नौ अक्टूबर तक होगा

एफमेक अध्यक्ष पूरन डावर ने बताया कि सात अक्टूबर को कार्यक्रम का शुभारंभ केंद्रीय वाणिज्य एवं उद्योग मंत्री पीयूष गोयल करेंगे। इसके साथ ही केंद्रीय राज्यमंत्री प्रो.एसपी सिंह बघेल, कैबिनेट मंत्री योगेंद्र उपाध्याय एवं सांसद राजकुमार चाहर विशिष्ठ अतिथि होंगे। कार्यक्रम स्थल के सभी स्टाल एक महीना पहले बुक हो चुके हैं। आगामी आयोजन में और अधिक विस्तार दिया जाएगा।

ये भी पढ़ें... Agra Fort: शाहजहां के आखिरी लम्हों की ये दास्तां, एक बुर्ज में कैद रहा था ताजमहल बनवाने वाला शहंशाह

जूता कारोबारियों को मिलेगी हर जानकारी

एफमेक कन्वीनर कैप्टन एएस राना ने बताया कि टाटा, रिलायंस, वालमार्ट, फ्यूचर ग्रुप जैसी कंपनियों ने चीन से आयात पूरी तरह बंद कर दिया है। उनकी निर्भरता भारतीय उत्पाद पर रह गई है, जिस कारण हमें तेजी से ग्रोथ मिल रही है। अपनी पकड़ को और मजबूत करने के लिए हमें गुणवत्ता वैश्विक बाजार को ध्यान में रखकर तैयार करनी होगी। आयोजन में जूता कारोबारियों को एक छत के नीचे जरूरत की हर जानकारी मिलेगी, तो नई तकनीक से रूबरू होने का अवसर मिलेगा।

कोविड के कारण दो वर्ष बाद होगा आयोजन

कोरोना संक्रमण काल के कारण मीट एट आगरा का आयोजन दो वर्ष बाद हो रहा है। इस कारण कारोबारियों के साथ ही आयोजन से जुड़े हर व्यक्ति को विशेष उत्साह है।

15 हजार करोड़ लक्ष्य के साथ बढ़ रहे आगे

एफमेक उपाध्यक्ष गोपाल गुप्ता ने बताया कि 15 हजार करोड़ कारोबारी लक्ष्य के साथ हम आगे बढ़ रहे हैं। निर्यात में आगरा की कुल भागीदारी 25 प्रतिशत है। वहीं घरेलू प्रोडक्शन में हम 65 प्रतशित पर हैं।

20 हजार से अधिक आएंगे विजिटर्स

तीन दिवसीय आयोजन में 20 हजार से अधिक विजिटर्स के आने की संभावना है। इसमें जूता कारोबारी, कर्मचारी से लेकर उद्योग से जुड़े अन्य सम्मिलित हैं। कालेज के छात्र-छात्राओं को इंडस्ट्री एक्स्पोजर और उद्यमिता के प्रति जागरूकता बढ़ाने के लिए विजिट रखा गया है। वे अंतरराष्ट्रीय तकनीक से रूबरू हो सकेंगे।

1200 से पांच हजार करोड़ पहुंचा कारोबार

एफमेक अध्यक्ष पूरन डावर ने कहा कि अपने को एक ही स्थान पर बनाए रखने के लिए भी कड़ा संघर्ष होता है, लेकिन हम निरंतर प्रगति कर रहे हैं। पहली मीट एट आगरा के समय हम 1200 करोड़ का कारोबार करते थे, जबकि अब पांच हजार करोड़ रुपये वार्षिक पहुंच चुका है।

रूस-यूक्रेन युद्ध से आई है मंदी

एफमेक अध्यक्ष ने कहा कि रूस-यूक्रेन युद्ध से मंदी आई है और कई गतिरोध भी आ रहे हैं। कुछ क्षेत्र के लोगों की खरीद क्षमता प्रभावित हुई है तो उनकी प्राथमिकता भी बदली है। वहीं यूएस का वीजा मिलने में भी देरी हो रही है। दो वर्ष बाद तक का वीजा मिल रहा है। इससे व्यापार में अपेेक्षित ग्रोथ नहीं मिल पा रही है।

ये रहे मौजूद

एफमेक उपाध्यक्ष राजेश सहगल, सचिव ललित अरोड़ा, कार्यकारिणी सदस्य प्रदीप वासन, चंद्र शेखर आदि मौजूद थे। 

Edited By: Abhishek Saxena

जागरण फॉलो करें और रहे हर खबर से अपडेट